Ads (728x90)

-
भिवंडी शहर महानगरपालिका के कर्मचारियों को इस वर्ष दिवाली पर्व के अवसर पर १५ हजार रुपये सानुग्रह अनुदान उपलब्ध कराने के लिए  कामगार कर्मचारी संघर्ष कृती समिती द्ववारा मनपा प्रशासन से मांग की गई थी।जिसपर अंतिम निर्णय लिए जाने हेतु मनपा प्रशासन ने महापौर के कार्यालय में कर्मचारी संघटना के पदाधिकारियों की बैठक ली गई थी ।परंतु उक्त बैठक में कर्मचारी संघटना के पदाधिकारियों द्वारा मांग  की गई रकम  देने के लिए मनपा  प्रशासन ने इनकार कर दिया है जिसकारण पुन: टल गई है।इसलिए मनपा प्रशासन  कर्मचारियों को सानुग्रह अनुदान के लिए समय पर निर्णय ले अन्यथा  कामबंद आंदोलन करेंगे इस प्रकार की चेतावनी  संघटना के पदाधिकारियों ने  बैठक में देते हुए बैठक से बाहर निकल गए। जिसकारण आगामी समय में मनपा प्रशासन व कर्मचारियों में सानुग्रह अनुदान हेतु पूर्व २०१६ की  तरह  संघर्ष करने की शंका निर्माण हुुई है।         
           भिवंडी मनपा आस्थापना पर लगभग चार हजार पांचसौ कर्मचारी कार्यरत हैं,पूर्व वर्ष मनपा  की आर्थिक परिस्थिति दयनीय होने के कारण प्रशासन द्वारा मजदूरों को ७ हजार १०० रुपये का अनुदान राशि का भुगतान किया गया था। परंतु इस वर्ष मनपा की  स्थिती पूर्व वर्ष की अपेक्षा अच्छी है। शासन द्वारा प्रतिमाह २० करोड रुपये अनुदान मिल रहा है  इसलिए मनपा कर्मचारियों को इस वर्ष दिवाली पर्व के अवसर पर  १५ हजार रुपये सानुग्रह अनुदान दिया जाए इस प्रकार की मांग  कामगार कर्मचारी संघर्ष कृती समिती द्वारा मनपा प्रशासन से की गई है।इसलिए मनपा आयुक्त डॉ.प्रविण आष्टीकर व महापौर जावेद दलवी ने महानगरपालिका के विविध कामगार संघटना के पदाधिकारियों की विशेष बैठक महापौर के कार्यालय में  सोमवार को आयोजित की गई थी।उक्त बैठक में  ऍड. किरण चन्ने ,संतोष चव्हाण ,दीपक राव ,महेंद्र कुंभारे ,भानुदास भसाले ,घनश्याम गायकवाड ,राजेश जाधव ,प्रकाश पाटील ,भारत तांबे आदि विविध पदाधिकारी उपस्थित थे। उक्त अवसर पर कामगार संघटना द्वारा की गई मांग पर मनपा  प्रशासन ने विरोध करते हुए केवल ७ हजार ५०० रुपये देने हेतु तैयार हैं तथा कामगार संघटना के साथ करने के बाद  १२ हजार ५०० रुपये देने की मांग  संघटना ने की है जिसे मनपा प्रशासन ने मानने से इंकार कर दिया है। जिसकारण प्रशासन व कामगार संघटना के दरम्यान स्तिथि तनावपूर्ण बनी हुई है। 
Attachments area

Post a comment

Blogger