Ads (728x90)


भिवंडी। एम हुसेन ।राकांपा भिवंडी शहर जिलाध्यक्ष शेख खालिद गुड्डू द्वारा भिवंडी बिजली कंपनी के विरोध में हल्ला बोल आंदोलन की तैयारी किया गया था परंतु आंदोलन पर राकांपा संस्थापक अध्यक्ष शरद पवार ने हस्तक्षेप करते हुए टोरेंट पावर कंपनी की मनमानी कार्यभार पर एक विशेष बैठक करेंगे इस प्रकार की प्रतिक्रिया शेख खालिद गुड्डू ने व्यक्त की है।राकांपा शहर जिलाध्यक्ष शेख खालिद गुड्डू द्वारा टोरेंट पावर कंपनी के विरोध में आंदोलन सत्र शुरु किया है।राकांपा द्वारा टोरेंट पावर कंपनी कार्यालय से  प्रांत कार्यालय तक अनेक आंदोलन किया गया है, इस आंदोलन के दरम्यान नागरिकों के हित संबंधी मांग राकांपा द्वारा किया गया जा रहा है। परंतु इनकी मांग पर शासन के बिजली वितरण विभाग के साथ-साथ टोरेंट पावर कंपनी द्वारा दुर्लक्ष किया जा रहा है। इस प्रकार का आरोप राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने लगाया है।जिसकारण शेख खालिद गुड्डू ने भिवंडी से राज्य शासन के बिजली वितरण कंपनी के  बांद्रा मुंबई स्थित मुख्य कार्यालय पर ५ नवंबर को बाईक रॅली हल्ला बोल मोर्चा का आयोजन किया  था।परंतु उक्त आंदोलन के विषय पर राकांपा संस्थापक अध्यक्ष शरद पवार ने गंभीरता पूर्वक संज्ञान में लेते हुए पुणे स्थित शरद पवार से भेंटवार्ता कर उक्त समस्याओं से अवगत कराया जिसे संज्ञान में लेते हुए मुंबई स्थित सह्याद्री शासकीय विश्राम गृह में आगामी १३ नवंबर को  सायंकाल ४ बजे एक विशेष बैठक का आयोजन किया  है।जिसमें भिवंडी की बिजली कंपनी विषयी आयोजित की गई इस विशेष बैठक में राष्ट्रवादी काँग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार ,ठाणे जिला के पूर्व पालकमंत्री गणेश नाईक के साथ ही राज्य शासन के बिजली वितरण विभाग के वरिष्ठ  वरिष्ठ अधिकारी व टोरेंट पावर कंपनी के कार्यकारी अभियंता सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहेंगे।उक्त विशेष बैठक में यदि संतोषजनक निर्णय नहीं लिया गया तो टोरेंट पावर कंपनी के विरोध में पुन: हमारा आंदोलन जारी रहेगा ।परंतु राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद पवार द्वारा भिवंडी करों की बिजली समस्या की समाधान के लिए लक्ष केंद्रित किए जाने से उक्त बैठक में निश्चित रूप से ठोस निर्णय निकलने का हमें पूरा विश्वास है इस प्रकार की प्रतिक्रिया खालिद गुड्डू ने व्यक्त की है। वहीं इस दरम्यान ऐन दिवाली पर्व शुरु होने से बाईक रॅली के आंदोलन के कारण नागरिकों को अनेक प्रकार की परेशानियों का सामना करना पडेगा और नियम कानून व सुव्यवस्था का प्रश्न निर्माण होने की शंका के परिणामस्वरूप पुलिस ने मोर्चा निकालने के लिए परमीशन देने से इंकार कर दिया है।इसलिए मोर्चा स्थगित कर दिए जाने की जानकारी सूत्रों द्वारा दी गई है। 

Post a comment

Blogger