Ads (728x90)


मुंबई: मुंबई के पूर्व उप महापौर और भाजपा नेता बाबू भाई भवानजी ने कोरोना के खिलाफ जंग में आम आदमी को राहत पहुंचाने के लिए जोरदार अभियान चला रखा है। उनके प्रयासों से आम जनता को भारी राहत मिली है।


हाल ही में कोरोना से जंग जीत कर लौटे टिटवाला के एक नागरिक ने बताया कि कोरोना से जंग में केंद्र व महाराष्ट्र सरकार की भूमिका सराहनीय है। सरकारी अस्पताल में आम जनता के लिए उत्तम सुविधाएं दी जा रही हैं। कोरोना टेस्टिंग और पूरा इलाज फ्री है । मरीजों को सभी उत्तम दवाएं मुफ्त में दी जा रही हैं। इस उत्तम सुविधा के लिए पीएम मोदी, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे तथा मुंबई के पूर्व उप महापौर बाबू भाई भवानजी धन्यवाद के पात्र हैं।

गौरतलब है कि  मुंबई के पूर्व उपमहापौर और भाजपा नेता बाबूभाई भवानजी ने केंद्र व राज्य सरकारों से मांग की  थी कि  वे कोरोना की दवा रेमडेसिवीर की कालाबाजारी पर रोक लगायें तथा कालाबाजारी में लिप्त लोगों को उम्र कैद की सजा की व्यवस्था करें.उन्होंने कहाकि था कि इस दवा को बनाने वाली कंपनियों को सारी सुविधाएँ उपलब्ध कराई जाएँ ताकि ये कम्पनियाँ जल्द से जल्द पूरे देश में पर्याप्त दवा की आपूर्ति कर सकें.

भवानजी ने कहा था कि एक तरफ देशवासी महामारी और बेरोजगारी से जूझ रहे हैं तो दूसरी और कुछ  दुकानदार और अधिकारी रेमडेशिवीर दवा की कालाबाजारी में लगे हैं . इन्हें न तो सरकार का कोई डर है और न ही गरीबी से जूझ रहे लोगों पर ही इन्हें तरस आ रहा है. ऐसे लोगों को पकड़े जाने पर आजीवन कारावास की सजा दी जानी चाहिये .

भवानजी ने कहा था कि केंद्र व प्रदेश सरकार की जिम्मेदारी है कि वह हर जिले में रेमडेशिवीर दवा की उपलब्धता सुनिशिचित करे . उन्होंने कहाकि हाल ही में एक कंपनी ने रेमडेशिवीर दवा की कीमत कम की है. सरकारें यह सुनिश्चित करें कि इसका लाभ जनता को मिले .उन्होंने कहाकि कोरोना की टेस्टिंग और इलाज मुफ्त में होना चाहिये .सरकार यह सुनिशिचित करे कि पैसे के अभाव में कोई आदमी इलाज से वंचित न हो .

उन्होने कहा था कि सरकार को चाहिये कि जल्द से जल्द वह कोई वैक्सीन देश में लाये, चाहे वह किसी भी देश की  क्यों न हो. उन्होंने कहाकि वैक्सीन के मानदंडों में ढील देकर एक विशेष व्यवस्था के कोई न कोई वैक्सीन जल्द से जल्द लोगों तक पहुचाने की कोशिश करे .

भवानजी ने कहा था कि किसी वैक्सीन के मार्केट में आने के बाद ही देश के वातावरण में सुधार आ सकता है और रोटी रोजी की स्थिति सुधर सकती है .उन्होंने कहा था कि आम लोगों को भी जल्द से जल्द लोकल ट्रेन में यात्रा करने का परमीशन दिया जाये, ताकि गरीब मजदूर भी अपनी रोटी रोजी कमा सकें .उन्होंने कहाकि भीड़ कम करने के लिए अभी  लोकल रेल में बच्चों व वृद्धों आदि  के प्रवेश पर रोक लगायी जा सकती है. उन्होंने कहा था कि लोकल ट्रेन में भीड़ कम करने के लिय सरकारी आफिस, कोर्ट और निजी कार्यालय तथा दुकानों के लिए अलग अलग समय निर्धारित किया जा सकता है.

Post a comment

Blogger