Ads (728x90)

 भिवंडी।एम हुसेन।निसर्ग चक्रवात के तूफ़ान के  दौरान  हुई तेज बरसात  में भिवंडी तालुका के सांगे गांव का श्मशान गुरूवार की सुबह अचानक ढह गया है।  सांगे गांव के नागरिकों ने श्मशान के निर्माण में निकृष्ट दर्जे की सामग्री उपयोग  करने का आरोप लगाया है।श्मशान के निर्माण में निकृष्ट दर्जे की सामग्री का उपयोग करने के मामले में गटविकास अधिकारी डॉ. प्रदीप घोरपड़े ने जांच करके उचित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है। 
    बतादें कि प्रत्येक गांव में श्मशान भूमि होना चाहिये इसी योजना के तहत भिवंडी तालुका के 239 ग्राम पंचायतों में 300 श्मशान के निर्माण की अनुमति दी गई थी जिसके तहत पांच लाख रुपया खर्च करके सांगे गांव में पूर्व  मार्च महीने में ही श्मशान भूमि का निर्माण किया गया था । सांगे गांव  वासियों  ने बताया कि ठेकेदार द्वारा श्मशान के निर्माण में निम्न दर्जे की सामग्री का उपयोग करने के कारण मात्र तीन महीने में ही वह ढह गया है । गांव वालों ने जिसकी शिकायत पंचायत समिति के गटविकास अधिकारी डॉ. प्रदीप घोरपड़े से की है।उन्होंने बताया कि इसके बारे में उन्हें अभी कोई जानकारी नहीं है , उन्होंने जांच करके उचित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है।

    इस मामले में ग्रामसेवक के साथ निर्माण विभाग के संबंधित अधिकारी से जानकारी लेकर उचित कार्रवाई की जायेगी ।उक्त प्रकार की प्रतिक्रिया  डॉ. प्रदीप घोरपड़े - गटविकास अधिकारी, पंचायत समिति, भिवंडी ने व्यक्त की है। 

Post a comment

Blogger