Ads (728x90)

-
कोल्हापुर,सांगली एवं सतारा के बाढ़ग्रस्ततों की सहायता करने के लिए महापौर सहित सभी नगरसेवकों ने अपना एक माह का मानधन देने का निर्णय लिया है। बाढ़ग्रस्त परिवारों की सहायत करने में मनपा कर्मचारी भी पीछे रहने वाले नहीं हैं। मनपा कर्मचारियों ने भी एक दिन का वेतन बढग़्रस्तों को देने का निर्णय लिया है।  
    ज्ञात हो कि पूर्व सप्ताह आने वाली बाढ़ के कारण कोल्हापुर,सांगली एवं सतारा जिले के विभिन्न क्षेत्रों में हाहकार मचा हुआ था। इस बाढ़ में बडे पैमाने पर जनधन की हानि हुई है और सैकड़ों परिवारों का जीवन ही उध्वस्त हो गया है, जिसमें नागरिकों की अपूरणीय क्षति हुई है। जिनके लिए सरकारी सहित सामाजिक स्तर पर सहायता की जा रही है। लेकिन वहां भारी आर्थिक  नुकसान हुआ है  जिसके लिए जितनी भी सहायता वहां पहुंच रही है वह अपर्याप्त है। जिसे ध्यान में रखते हुए  महापौर जावेद दलवी,उप महापौर मनोज काटकर,सभागृह नेता प्रशांत लाड एवं विरोधी पक्षनेता यशवंत टावरे एवं मनपा के सभी प्रभाग समितियों के सभापति सहित सभी नगरसेवकों ने अपना एक महीने का मानधन बाढ़ग्रस्तों की आर्थिक सहायता के लिए देने का निर्णय लिया है जो सराहनीय है । 
      इनके साथ ही मनपा में लगभग साढ़े चार हजार कर्मचारी कार्यरत हैं जो सभी कर्मचारी अपना एक दिन का वेतन बाढ़ग्रस्तों को देने वाले हैं। जिसके लिए यहां का मजदूर संगठन अखिल महाराष्ट्र जनरल कामगार यूनियन के अध्यक्ष महेंद्र कुंभारे ने मनपा आयुक्त को पत्र लिखकर मनपा के सभी कर्मचारियों के अगस्त पेड इन सितंबर महीने के वेतन से एक दिन का वेतन काटने का निर्णय लिया गया है। इस प्रकार की प्राकृतिक आपदा के बाद सरकारी एवं अर्ध सरकारी कर्मचारियों के एक दिन के वेतन में कटौती करने का परिपत्रक राज्य सरकार द्वारा जारी किया जाता है। लेकिन राज्य सरकार के परिपत्र की प्रतीक्षा किए बिना महापौर जावेद दलवी सहित सभी नगरसेवकों द्वारा बाढ़ग्रस्तों की सहायता करने का सराहनीय निर्णय ले लिया गया है। इसकी पुष्टि करते हुए महापौर जावेद दलवी ने कहा कि बाढ़ग्रस्तों की समय पर सहायता किए जाने से मनपा के सभी पदाधिकारियों एवं नगरसेवकों सहित मनपा कर्मचारियों को मानसिक लाभ होगा।  

Post a comment

Blogger