Ads (728x90)

भिवंडी मनपा प्रभाग क्ररमांक दो अंतर्गत शांतिनगर स्थित पीरानीपाड़ा में मात्र छह वर्ष पुरानी चार महले की एक इमारत शनिवार की रात ताश के पत्तों की तरह अचानक ढह गई। जिसके मलबे में दब जाने से दो लोगों की मौत हो गई है और छह लोग घायल हो गए हैं। जिसमें दो अग्निशमन दल के जवानों का समावेश है।  इसके अलावा कई अन्य लोग भी मामूली जख्मी हुए हैंं। घायलों को आईजीएम उपजिला अस्पताल सहित अन्य निजी अस्पतालों में उपचार हेतु भर्ती कराया गया है।उक्त दुर्घटना की सूचना मिलते ही स्थानीय पुलिस सहित मनपा आपातकालीन विभाग, अग्निशमन दल,एनडीआरएफ एवं टीडीआरएफ की टीम खोजी कुत्तों के साथ घटनास्थल पर पहुंचकर रेस्क्यू एवं बचाव अभियान में जुट गई है। पुलिस ने इमारत मालिक के विरुद्ध हत्या का मामला दर्ज करके उसे गिरफ्तार कर लिया है। 
  ज्ञात हो कि पीरानीपाड़ा में घर नंबर- 401 पर मुनव्वर अहमद अंसारी द्वारा छह वर्ष पहले चार महले की एक इमारत अवैध रूप से बनाई गई थी। मुनव्वर बिल्डिंग नामक इस इमारत में 22 परिवार रहते थे, लेकिन भवन निर्माता मुनव्वर अहमद अंसारी द्वारा इमारत के निर्माण में इतने निम्न दर्जे की सामग्री का उपयोग किया गया था कि मात्र छह वर्ष में ही यह इमारत ताश के पत्तों की तरह ढह गई, लेकिन छह वर्ष पहले बनाई गई इस इमारत को मनपा द्वारा अपने अधिकारियों को बचाने के लिए 10 वर्ष पुरानी इमारत बताई जा रही है। 
 भिवंडी  मनपा की सतर्कता से नहीं हुई कोई बडी दुर्घटना , 23 अगस्त शुक्रवार की शाम लगभग साढ़े सात बजे पीरानीपाड़ा स्थित मुनव्वर बिल्डिंग का कॉलम फटना शुरू हो गया था, कॉलम फटने के साथ इमारत का प्लास्टर टूटकर गिरने एवं इमारत से आवाज़ आने के कारण इसकी सूचना शांतिनगर पुलिस सहित मनपा प्रशासन को दी गई, इमारत के कॉलम में दरार आने की सूचना मिलते ही अग्निशमन दल के जवानों के साथ मनपा आपातकालीन विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी वहां पहुंचकर उसमें रहने वाले सभी परिवारों को सुरक्षित बाहर निकाल दिया गया था। यदि मनपा द्वारा इसमें रहने वाले 22 परिवारों को बाहर नहीं निकाला गया तो बडी दुर्घटना घटित होने से इंकार नहीं किया जा सकता है ।  
   
मनपा द्वारा रात लगभग एक बजे तक पूरी इमारत खाली करा ली गई थी वहां उपस्थित मनपा के अभियंताओं ने बताया था कि यह इमारत कभी भी गिर सकती है इसलिए पूरी इमारत खाली कराकर मनपा अधिकारी राहत की सांस ले रहे थे। उसी समय उनकी नजर बचाकर पीछे की ओर से कुछ लोग इमारत में जाकर अपना सामान निकालने लगे। बताया जाता है कि उस इमारत के चौथे महले पर रहने वाले आकिब अंसारी चौथे महले पर रखी अपनी मोटर साइकिल लेने के लिए इमारत के अंदर चला गया था, उसी समय इमारत अचानक ढह गई, जिसके मलबे में दबने से मो. आकिब मो.हबीब शेख (27) एवं सिराज अनवर उर्फ़ बाबू अंसारी (26)की मौत हो गई और अब्दुल अजीज सैयद,जावेद शेख, निजामुद्दीन सिद्दीकी ,सुफियान अब्दुल हसन, नरेंद्र बोवेन, देवीदास वाघा सहित कुल छह लोग घायल हो गए हैं। घायलों में नरेंद्र बोवेन एवं देवीदास वाघा अग्निशमन दल के कर्मचारी हैं, इसके अलावा कई अन्य लोग भी मामूली रूप से घायल हुए हैं।   
 मुनव्वर बिल्डिंग नामक चार महले की यह इमारत देखते ही देखते लोगों के सामने मात्र छह सेकेंड में ही पूरी तरह से बिखर गई थी।इस संदर्भ में प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि रात एक बजकर 17 मिनट पर देखते ही देखते छह सेकेंड में पूरी इमारत ढह गई, इस इमारत के ढहने से उसके बगल स्थित कई झोपड़े भी क्षतिग्रस्त हो गए हैं। इमारत के गिरने की सूचना मिलते ही स्थानीय पुलिस, मनपा आपातकालीन विभाग सहित एनडीआरएफ एवं टीडीआरएफ की टीम घटनास्थल पर पहुंचकर रेस्क्यू एवं बचाव कार्य में जुट गई थी। स्थानीय नागरिकों एवं पुलिस द्वारा घायलों को उपचार के लिए आईजीएम अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 
 दुर्घटना की सूचना मिलते ही स्थानीय विधायक रुपेश म्हात्रे, मनपा आयुक्त अशोककुमार रणखांब एवं पुलिस उपायुक्त राजकुमार शिंदे सहित अन्य अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचकर रेस्क्यू एवं बचाव कार्य का जायजा ले रहे थे। 

Post a comment

Blogger