Ads (728x90)

भिवंडी, ।एम हुसेन। एम हुसेन ।महाराष्ट्र स्टेट पावरलूम फेडरेशन के अध्यक्ष तथा बुजुर्ग समाजसेवी फैजान आजमी ने भिवंडी शहर में व्याप्त नागरिक समस्याओं और शहर की बर्बादी के लिए जनप्रतिनिधियों को जिम्मेदार ठहराते हुए मुख्यमंत्री से मांग की है कि भिवंडी की समस्याओं के समाधान हेतु भिवंडी महानगरपालिका में आईएएस आयुक्त की नियुक्ति की जाए।
                      राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, नगर विकास मंत्री डॉ रणजीत पाटील व राज्य के मुख्य सचिव को भेजे ज्ञापन में महाराष्ट्र स्टेट पावरलूम फेडरेशन के अध्यक्ष फैजान आजमी ने बताया कि नगरपालिका से भिवंडी शहर को महानगरपालिका का दर्जा मिले हुए 19 साल हो गए, जिसके अंतर्गत शहर में केवल मनपा प्रशासन की नई बिल्डिंग और शहर में स्वर्गीय राजीव गांधी उड़ान पुल के अलावा जनता के विकास का कोई भी एक उल्लेखनीय कार्य नहीं हुआ है जो दुर्भाग्यपूर्ण है । आजमी ने दावा किया है कि यदि उक्त दोनों निर्माण कार्यों की उच्चस्तरीय जांच की जाए तो इसमें करोड़ों रुपए का भ्रष्टाचार उजागर होगा। जिसका जीवित उदाहरण यह है कि केवल 13 वर्ष में ही उड़ान पुल कमजोर हो गया है, जगह-जगह गड्ढे पड़ गए हैं, उड़ान पुल बीच में टूट भी गया था, जिसकी रिपेयरिंग करना जरूरी हो गया है ।इतने रुपए खर्च करके उड़ान पुल पर विगत 2 महीने से भारी वाहनों का प्रवेश वर्जित कर दिया गया है। फैजान आज़मी ने मनपा के अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि यह सभी लोग मिलकर मनपा की तिजोरी पर डकैती डालने जैसा काम कर रहे हैं। भ्रष्टाचार और कमीशन खोरी का कारोबार चल रहा है। जिससे घटिया दर्जे का विकास कार्य हो रहा है। शहर में नागरिक समस्याएं बढ़ती चली जा रही है। उदाहरण के तौर पर बताया गया है कि भिवंडी का एक मेव स्वर्गीय मीना ताई ठाकरे नाट्यगृह विगत 2 वर्षों से पैसे के अभाव में मरम्मत के लिए बंद पड़ा हुआ है। मजदूर बाहुल्य इस शहर में स्वास्थ्य सेवाएं बेहद घटिया दर्जे की हैं। विकास के नाम पर शहर में चलाई जा रही अंडर ग्राउंड ड्रेनेज लाइन योजना की जांच सीबीआई से कराने की मांग करते हुए आदमी ने बताया है कि इसमें करोड़ों रुपए का भ्रष्टाचार हो रहा है। कर्ज में डूबी महानगरपालिका का रोना रोकर जनप्रतिनिधि और अधिकारी आपस में सांठगांठ कर  जनता की गाढ़ी कमाई का पैसा लूट रहे हैं। शहर में सड़कों की हालत अत्यंत दयनीय है, गटर, नाला कचरे से भरे हुए हैं, जिससे मामूली से भी बरसात में शहर में पानी जमा हो जाता है ।चारों तरफ कचरे का ढेर लगा हुआ है, दुर्गंध का साम्राज्य फैला हुआ है। जिसके कारण शहर में मच्छरों का प्रभाव बढ़ रहा है ।तरह-तरह की संक्रामक बीमारियां फैल रही है। शहर में कई भागों में पेयजल का संकट बना हुआ है साथ ही मनपा प्रशासन की लापरवाही के कारण दूषित पानी सप्लाई किया जा रहा है। शिक्षा का स्तर बेहद घटिया है और स्कूल भवनों की दशा बेहद खराब है। आजमी ने आरोप लगाते हुए कहा है कि उक्त सभी समस्याओं को देखने से यह सिद्ध होता है कि मनपा प्रशासन और जनप्रतिनिधि खुद को निष्क्रिय, अकार्यक्षम, बेपरवाह व भ्रष्ट सिद्ध कर दिए हैं। ऐसी स्थिति में शहर की नागरिक समस्याओं को समाप्त करने तथा शहर को वापस कर्ज़दारी से मुक्ति देकर विकास के पथ पर लाने के लिए शहर में आईएएस मनपा आयुक्त की नियुक्ति की जाए जो अत्यंत आवश्यक है।


Post a comment

Blogger