Ads (728x90)

वृक्षारोपण के संदर्भ में फिल्म क्षेत्र के गणमान्यों के साथ वन मंत्री की बातचीत

 मुंबई, जून 8:- विश्व में आज देश की प्रगति का मूल्यमापन करते समय ‘पर कैपिटा इनकम’ (प्रति व्यक्ति आय) की भांति ‘पर कैपिटा हैप्पीनेस’ (प्रति व्यक्ति खुशहाली) क्या है इस पर विचार किया जा रहा है तथा मनुष्य के चेहरे पर संतोषप्रद हंसी को ही सही संपत्ति माना जा रहा है, ऐसा प्रतिपादन वन मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने किया.

            मल्टीप्लेक्स तथा सिंगल स्क्रीन ओनर और फिल्म क्षेत्र के गणमान्य सदस्यों के साथ वन मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने 33 करोड़ वृक्षारोपण के संबंध में संवाद साधते हुए उन्हें इस मिशन में सहभागी होने का आह्वान किया. इस बैठक में विधायक मंगल प्रभात लोढ़ा, वन विभाग के प्रधान सचिव विकास खारगे सहित फिल्म इंडस्ट्री के प्रतिनिधि, निर्माता और अन्य गणमान्य सदस्य उपस्थित थे.

            ‘जीवन में जंगल नहीं होता तो जीवन कहीं भी सही ढंग से नहीं चल पाता’ यह कहते हुए श्री मुनगंटीवार ने कहा कि “जहां वन वहां सुखी जीवन” यह बात स्पष्ट हो चुकी है. उन्होंने कहा कि ‘वन’ के लिए ‘मन’ से बात करने हेतु यहां इकट्ठा हुए सभी उपस्थित लोगों का वे आभार व्यक्त करते हैं. सेवा भाव, मानवता भाव के साथ ही समाज में व्यक्तियों के मन में ‘वृक्ष भाव’ का रोपण करने में फिल्म इंडस्ट्री के गणमान्य सदस्य महेत्वपूर्ण भूमिका ऐडा कर सकते हैं क्योंकि इनके फॉलोअर्स की संख्या काफी विशाल है. उनका एक संदेश बहुत बड़ी प्रेरणा सिद्ध हो सकता है, इस और ध्यान देते हुए इन सभी मान्यवरों को अपने सोशल मीडिया द्वारा वृक्षारोपण को लेकर प्रोत्साहित करने वाले संदेश देने चाहिए ऐसी अपील भी उन्होनी की. उन्होंने यह भी कहा कि जहां जहां संभव होगा वहां पर वृक्षारोपण के कार्यक्रम में फिल्म इंडस्ट्री के लोगों को सहभागी होकर प्रेरणा देनी चाहिए.

 थिएटर के मालिको को वृक्षारोपण के लिए प्रोत्साहन देने वाले डॉक्यूमेंट्री और वीडियो क्लिप्स अपने थिएटर में बिना कोई पैसे लिए प्रदर्शित करने चाहिए और इस जनजागृति के काम में उन्हें मदद करनी चाहिए, ऐसी अपेक्षा सरकार की ओर से उन्होंने व्यक्त की. सभी के सहयोग से 33 करोड़ वृक्षारोपण मिशन आगे जाएगा, यह विश्वास उन्होंने व्यक्त करते हुए उन्होंने वृक्षारोपण, उसका जतन और संरक्षण करने का आग्रह किया. इस वर्ष का सब से बड़ा उपक्रम ३३ करोड़ वृक्षारोपण करना है. महाराष्ट्र में किया जाने वाला यह काम समूचे विश्व के समक्ष पायलट प्रोजेक्ट के रूप में पेश होंगा.

            विश्व की सबसे बड़ी हरित सेना अर्थात ‘ग्रीन आर्मी’ महाराष्ट्र ने ही खड़ी की है. उन्होंने बताया कि अब तक 61 लाख लोग हरित सेना के सदस्य बन चुके हैं और आह्वान किया कि सभी को इस सेना की संख्या एक करोड़ के पार ले जानी है. उन्होंने कहा कि सभी को वन, वन्यजीव संरक्षण और संवर्धन में योगदान देना चाहिए.

            बैठक में वन विभाग के प्रधान सचिव विकास खारगे ने प्रस्तावित किया. उन्होंने राज्य सरकार द्वारा 50 करोड वृक्षारोपण कार्यक्रम, अब तक हुए वृक्षारोपण और लोकसहभाग की जानकारी दी. इस समय वन विभाग द्वारा कार्यान्वित विभिन्न योजनाओं की जानकारी का प्रस्तुतीकरण भी किया गया. वृक्षारोपण में पारदर्शिता के लिए सूचना एवं प्रौद्योगिकी का उपयोग, 1926 हेलो फॉरेस्ट हेल्पलाइन की जानकारी, हरित सेना, आज तक हुए वृक्षारोपण, उसमें लोगों का सहभाग आदि विषयों की जानकारी भी दी गई

Post a comment

Blogger