Ads (728x90)

भिवंडी ।भिवंडी शहर व तालुका में बिजली आपूर्ति करने के लिए सरकार ने टोरेंट पावर कंपनी को फ्रंचाइसी दी है जिसके अनुसार कंपनी कार्यरत है। इसी क्रम में टोरेंट पावर कंपनी द्वारा की जा रही बिजली आपूर्ति के संबंध में की गई शिकायतों के संबंध में राज्य सरकार द्वारा विद्युत भार निरीक्षण के लिए गठित संयुक्त समिति ने जांच में टोरेंट पावर कंपनी के सभी ट्रांसफार्मरों को जहां अच्छी स्थिति में कार्यरत पाया है वहीं भिवंडी-नासिक रोड पर आपूर्ति करने वाले ट्रांसफार्मरों में भी किसी प्रकार की समस्या नहीं पाई गई। अधिकांश ट्रांसफार्मरों का विद्युत भार निर्धारित सीमा में पाया गया है। अति उच्च दाब उपकेंद्र में बिजली के तारों में बिजली के दाब वृद्धि होने के कारण केवल कुछ ट्रांसफार्मरों में बिजली का दाब अधिक पाया गयाा है लेकिन वह भी अनुमेय सीमा में था।
   ज्ञात हो कि भिवंडी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के जिलाध्यक्ष शेख मो.खालिद गुड्डू ने पूर्व कई वर्षों से भिवंडी में बिजली आपूर्ति करने वाली टोरेंट पावर कंपनी के फास्ट मीटर एवं कम-ज्यादा दाब में बिजली आपूर्ति सहित विभिन्न प्रकार की शिकायतों को लेकर आंदोलन कर रहे थे।  जिसको लेकर शेख मो. खालिद शेख की मांग पर ऊर्जा मंत्री बावनकुले की अध्यक्षता में राकांपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरदचंद्र पवार की उपस्थिति में मलबार हिल मुंबई स्थित सह्याद्री अतिथि गृह में एक विशेष बैठक का आयोजन किया गया था। जिसमें विद्युत भार निरीक्षण करने के लिए एक संयुक्त समिति का गठन किया गया था जिसके बाद संयुक्त समिति ने छह सप्ताह तक प्रत्येक शुक्रवार को दोपहर एक से दो बजे के बीच में नासिक रोड सहित शहर के अन्य क्षेत्रों में की जा रही बिजली आपूर्ति में बिजली दाब का निरीक्षण करके उसकी रिपोर्ट महावितरण कंपनी में प्रस्तुत किया था। जिसके बाद महावितरण कंपनी ने अपनी प्रतिक्रिया के साथ राज्य सरकार को रिपोर्ट प्रस्तुत करते हुए जानकारी दी कि  टोरेंट पावर कंपनी के सभी ट्रांसफार्मरों को जहां अच्छी स्थिति में कार्यरत पाया गया है वहीं नासिक रोड पर बिजली आपूर्ति करने वाले ट्रांसफार्मरों में भी किसी प्रकार की कोई समस्या नही पाई गई है।
   समिति ने अपने अवलोकन में स्पष्ट रूप से कहा है कि भिवंडी में शुक्रवार के दिन पावरलूम कारखानों में साप्ताहिक छुट्टी रहती है।और शुक्रवार को नमाज के समय अधिकांश कारखानों सहित अन्य कारोबार के बंद होने के कारण कुछ जगहों पर वोल्टेज में अनुमेय वृद्धि पाई गई है। लेकिन उस वोल्टेज वृद्धि से बिजली ग्राहकों के मीटर अथवा बिजली प्रयोग पर कोई असर नही पड़ता है। कुछ ग्राहकों के पास स्थायी रूप से कैपेसिटर लगे होने के कारण कुछ ट्रांसफार्मर पर पावर फैक्टर लीडिंग पाया गया, लेकिन उसका भी ग्राहकों के बिल पर कोई असर नही पड़ता। इसी प्रकार कुछ ट्रांसफार्मरों पर यदि असंतुलित लोड हो तो ट्रांसफार्मर के न्यूट्रल में भी करंट पाया जाता है। लेकिन उसका भी ग्राहकों के मीटर पर अथवा बिल पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। संयुक्त समिति द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट में स्पष्ट रूप से यह भी कहा गया है कि ग्राहकों के अंसतुलित बिजली के तरीकों के कारण तथा घरेलू और औद्योगिक ग्राहक एक ही जगह संयुक्त होने के कारण बिजली के प्रयोग  में असंतुलन पाया जाता है। जिसके कारण ट्रांसफार्मर के न्यूट्रल में करंट पाया जाता है। उक्त संयुक्त समिति रिपोर्ट के अनुसार यह स्पष्ट होता है कि टोरेंट पावर कंपनी के विरुद्ध राकांपा भिवंडी शहर जिलाध्यक्ष शेख मो.खालिद गुड्डू द्वारा लगाए गए  आरोप बेबुनियाद व झूठे हैं, यह केवल प्रसिद्धि स्टंट व आम जनता को गुमराह करने की सोची समझी रणनीति थी ।

Post a comment

Blogger