Ads (728x90)

मूल किसानों को अंधेरे में रखकर  जमीन दलालों ने बोगस दस्तावेज तैयार कर 11 एकर खेती की जमीन कथित रूप से साठेकरार द्वारा विक्री करने का प्रकरण भिवंडी तालुुका के मौजे जानवल स्थित उजागर हुआ है इस सनसनीखेज प्रकरण से यहां के किसानों को संकट का सामना करना पड रहा है। उक्त खेती जमीन चीटिंग प्रकरण में जमीन दलाल व खरीदारी करने वालों के विरुद्ध शांतीनगर पुलिस स्टेशन ने  भादंवि.कलम ४२० ,४६५ , ४६७,४६८,४७१,३४ अन्वये फौजदारी का मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार जमीन दलाल गणेश राजन ओतारी निवासी .कुंभार आली ,जमीन खरीदार  तनवीर रफीक शेख निवासी . कांदिवली,गुलाम जिलानी मोहम्मद इद्रीस सैय्यद निवासी . ओशिवरा , रज्जाक महम्मद भातनासे शेख  निवासी . यवतमल , ताहिर गुलाम जिलानी सैय्यद निवासी . जोगेश्वरी , महंमद रफीक नजीर शेख  निवासी .कांदीवली इस प्रकार खेती की जमीन टीचिंग प्रकरण में चीटर मंडली का  समावेश है।उक्त सभी ने सांठगांठ कर मौजे जानवल निवासी किसान कुंडलिक पांडुरंग पाटिल व इनके परिवार के अन्य सात लोगों के नाम की सर्वे नं. ४,स. नं. ६ / २ , स. नं. ८ ,स. नं.५ / ३ ,व स.नं. ३ / १ /ड इस सर्वे नंबर में लगभग कुल 11  एकर खेती जमीन कथित तौर से साठेकरार विक्री कर के मूल किसान के साथ चीटिंग किया है। जिसके लिए उक्त चुटरों ने सहदुय्यम निबंधक - २ के कार्यालय में मूल किसान के बजाय दूसरे व्यक्ति  को खडा करके उसका फोटो ,बोगस पता व बोगस आधार कार्ड तैयार करके जमीन का साठेकरार करने की पुुष्टि हुई है।ज्ञात हो कि नांदकर स्थित इसी प्रकार जमीन हडपने काा मामला गणेश ओतारी के विरुुद्ध शांतीनगर पुलिस स्टेशन में इससे पूर्व भी दर्ज हुआ है।  परंतु इसने पुनः इसी प्रकार चीट करके जमीन हडपने का काम जानवल   स्थित किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। उक्त मामलेे की विस्तृत जांच पुलिस उपनिरीक्षक तुकाराम सकुंडे कर रहे हैं।     

Post a comment

Blogger