Ads (728x90)




भिवंडी।एम हुसेन। किसान कष्टकारी समाज का अतिश्रम रोजगार हमी योजना में समावेश कर खेती के बांधबंदिस्ती , धान लगाना , बीज डालना,धान लगाना आदि काम के लिए खेती के काम के लिए रोजगार हमी योजना से  शासन मान्यता देकर ऐसा कानून पारित करने की मांग को लेकर श्रमजीवी संघटना द्वारा  भिवंडी तहसीलदार कार्यालय पर  एक विशाल मोर्चा का आयोजन किया गया था। श्रमजीवी संघटना के जिलाध्यक्ष दत्तात्रय कोलेकर , उपाध्यक्ष अशोक सापटे , तालुकाध्यक्ष सुनील लोणे , सचिव जया पारधी के नेतृत्व में नदिनाका स्थित से शुुरू हुआ, इस मोर्चा  में संपूर्ण तालुुका के सैकड़ों की संख्या में आदिवासी स्त्री पुरुष , किसान भारी संख्या में सहभागी हुए थे। भिवंडी तहसीलदार कार्यालय के सामने  मोर्चा आने पर वहीं  सभा का रूपांतर हो गया जहां  प्रतिनिधियों ने मार्गदर्शन किया। उसके बाद  शिष्टमंडल ने तहसीलदार शशिकांत गायकवाड से भेंटवार्ता कर इनके माध्यम से मुख्यमंत्री को अपनी मांगों पर आधारित ज्ञापन सौंपा।
           किसान कष्टकारी अपने खेत में अतिश्रम करके जिस प्रकार से मेहनत करते हैं उन्हें जो आर्थिक खर्च करते हैं उसकी अपेक्षा उत्पन्न न मिलने के कारण किसान आर्थिक तंगी के कारण आत्महत्या मार्ग अपनाते हैं यह खेदजनक समस्या का समाधान करने के लिए उक्त प्रकार की मांग शासन से की है। उक्त प्रकार की मांग करते हुए  जिलाध्यक्ष दत्तात्रय कोलेकर ने स्पष्ट करते हुए कहा कि आगामी १५ अगस्त तक  राज्य सरकार ने इस बाबत योग्य नीति नहीं अपनाई तो उग्र आंदोलन करेंगे।तथा जिला उपाध्यक्ष अशोक सापटे ने कहा कि श्रमजीवी संघटना के संस्थापक विवेक पंडित के मार्गदर्शन में ठाणे , पालघर , नाशिक , रायगढ , पुणे इन पांच  जिलों में प्रत्येक तहसीलदार कार्यालय पर किसानों के मोर्चे का आयोजन कर सरकार का ध्यान केंद्रित किया जाएगा।

Post a comment

Blogger