Ads (728x90)

तरुण चेतना द्वारा एक साथ 32 साक्षरता केन्द्रों पर दिया गया तम्बाकू निषेध का सन्देश

हर 8 सेकण्ड पर होती है तम्बाकू से एक मौत –

 पट्टी (प्रतापगढ़) ! “एक साल में 12 लाख लोगों की मौत का वजह बनता है तंबाकू“ उक्त विचार तरुण चेतना संस्थान प्रतापगढ़ द्वारा महिला साक्षरता केन्द्रों पर आयोजित विधिक साक्षरता एवं जागरूकता गोष्ठी में नसीम अंसारी ने व्यक्त किया. ग्रामसभा भिटार में विश्व तंबाकू दिवस के अवसर पर गोष्ठी के दौरान तरुण चेतना के निदेशक व् पराविधिक स्वयं सेवक नसीम अंसारी ने बताया कि तंबाकू भारत में हर घंटे 137 जिंदगियां लील रहा है। और पूरी दुनिया में देखा जाय तो हर 08 सेकंड पर एक मौत हो रही है। हमारे देश में हर साल बारह लाख लोगों की मौत का वजह बनता है तंबाकू। भारत में प्रतिवर्ष 5 लाख व्यक्ति धूम्रपान जन्य रोगों से ग्रसित हो जाते हैं।
इसी क्रम में सहज शिक्षा परियोजना के प्रोजेक्ट डायरेक्टर, हकीम अंसारी ने कहां की विश्व स्वास्थ्य संगठन डब्ल्यू़ एच ओ के मुताबिक पूरी दुनिया में करीब एक अरब दस करोड़ लोग किसी ना किसी रूप में तंबाकू का सेवन करते हैं। अंसारी ने कहा स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार एक सिगरेट  जिंदगी के 11 मिनट कम कर देता है। महिलाओं के बीच में भी तंबाकू का सेवन लगातार बढ़ता जा रहा है। यह एक सोचनीय विषय है। क्योंकि महिलाओं से आने वाली बच्चों पर बुरा प्रभाव पड़ेगा। डिस्ट्रिक्ट कोऑर्डिनेटर अच्छे लाल बिंद ने कहां की तंबाकू  सेवन करने वाली आधे लोगों को यह पता नहीं है। कि इससे दिल का दौरा का खतरा भी हो सकता है। तंबाकू सेवन करने वाले की मौत 90 प्रतिशत मुंह के कैंसर कैसे होता है। जैसा कि एक सर्वे के मुताबिक पाया गया कि अपने भारत में 48 फीसदी पुरुष और 20 फीसदी महिलाएं तम्बाकू का इस्तेमाल करती हैं। अंत में सभी लोग संकल्प लेते हुए कहा कि आओ हम संकल्प करें। धूम्रपान को बंद करें।
 इस अवसर पर सामाजिक कार्यकर्त्ता मो० शमीम ने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के अनुसार, धूम्रपान एवं तंबाकू के कारण दुनिया में प्रतिवर्ष लगभग 40 लाख से अधिक लोग मौत का शिकार हो जाते हैं तथा चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार, 5 से 10 सिगरेट रोज पीने वाले व्यक्ति को दिल का दौरा पड़ने की आशंका दोगुना ज्यादा बढ़ जाती है।
उल्लेखनीय है कि तरुण चेतना द्वारा विश्व तम्बाकू निषेध दिवस के अवसर पर तहसील के 32 ग्रामपंचायतों में एक साथ रैली एवम् गोष्ठी, नारा लेखन के माध्यम से लोगों को तम्बाकू व् ध्रूम्रपान से होने वाले नुकसान के बारे में जागरूक किया गया !
 तंबाकू को जिसने गले लगाया। मौत को अपने पास बुलाया। इस कार्यक्रम में राकेश, किरन, चंपादेवी, रीना यादव, प्रज्ञा दुबे, मिथिलेश, वंदना,  संजय मौर्य, शकुंतला देवी नीलम, श्याम शंकर शुक्ला आदि लोग उपस्थित रहे।

Post a comment

Blogger