Ads (728x90)

-राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ यूपी भाजपा अध्यक्ष महेंद्र पांडे और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी रहेंग मौजूद

मीरजापुर,हिन्दुस्तान की आवाज, संतोष देव गिरी

मीरजापुर। सूबे के गोरखपुर और फूलपुर उप चुनाव हारने के बाद पहली बार पूर्वांचल में पार्टी संगठन के पंेच कसने भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह चार जुलाई को मीरजापुर आयेगें। यहां वह पार्टी के काशी और गोरखपुर प्रांत के अंतर्गत आने वाले जिले के संगठन, पदाधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। बैठक के दौरान गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीट पर पार्टी की हार को लेकर समीक्षा हो सकती है साथ ही आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर पार्टी कि तैयारियों को मजबूत करने कि कोशिश पर भी मंथन होगा। राष्ट्रीय अध्यक्ष के आगमन को लेकर तैयारी तेज कर दी गयी हैं। जिले में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के आने का कार्यक्रम लगभग निश्चित हो चुका है। सूत्रों के मुताबिक चार जुलाई को अमित शाह विंध्याचल के कंतित स्थित एक होटल में सुबह दस बजे से पांच बजे तक पार्टी नेताओं के साथ लोकसभा चुनाव कि तैयारियों को लेकर बैठक करेंगे। पार्टी संगठन में काशी प्रांत के अंतर्गत कुल 15 जिले और गोरखपुर प्रांत के अंतर्गत 13 जिलों को शामिल किया गया है। सूत्रों के मुताबिक यहां कुल तीन बैठक का आयोजन किया जाएगा। पहली बैठक सांसद, विधायक और जनप्रतिनिधियों के साथ करेंगे। दूसरी बैठक में पार्टी के जिला अध्यक्ष और जिला प्रभारी शामिल होंगे। तीसरी बैठक समन्वय और बूथ अध्यक्ष के साथ होगी। इसके बाद वह विंध्याचल में मां विंध्यवासनी का दर्शन-पूजन करेगें। भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष के आगमन कि तैयारियों को लेकर शुक्रवार को काशी प्रांत के संगठन मंत्री रत्नाकर जिले के पार्टी नेताआंे के साथ बैठक कर पूरे कार्यक्रम कि रूप रेखा तैयार करने में जुटे रहे। इसके बाद पार्टी के प्रदेश संगठन मंत्री सुनील बंसल भी जिले में पहुंच कर कार्यक्रम कि तैयारियों को परखेंगे। राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष महेंद्र पांडे और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहेंगे। भाजपा के जिला अध्यक्ष बालेंदुमणी त्रिपाठी ने राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के आगमन कि पुष्टि करते हुए बताया कि उनका आना लगभग तय हो गया है। वह काशी और गोरखपुर प्रान्त के पार्टी नेताओं के साथ बैठक लेंगे। राजनीतिक हलकों में अमित शाह के इस दौरे को बहुत ही महत्वपूर्ण माना जा रहा है। सूत्रों के अनुसार अमित शाह इस दौरे के माध्यम से जहां पूर्वांचल की सियासी नब्ज पकड़ने कि कोशिश करेंगे तो वहीं एनडीए में शामिल सहयोगी दलों के साथ बेहतर तालमेल का संदेश देने कि कोशिश होगी। बता दें कि 2014 के लोक सभा चुनाव में भाजपा ने काशी प्रांत के चैदह लोकसभा सीटों में से तेरह सीटों पर कब्जा किया था। जिनमे से दो सीटें उनके सहयोगी दल अपना दल के खाते में आई थीं। उसे गोरखपुर प्रांत के सभी सीटों पर जबरजस्त सफलता मिली थी। पर लोक सभा उप चुनाव में पार्टी दोनों संगठन प्रांतों के अंतर्गत आने वाली दो लोक सभा सीटों फूलपुर और गोरखपुर में समाजवादी पार्टी से हार का सामना करना पड़ा, जिसकी वजह से भाजपा की किरकिरी भी हुई। यह पहली बार होगा जब दोनों प्रांत के संगठन पदाधिकारी सीधे राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ बैठक करेंगे।


Post a comment

Blogger