Ads (728x90)

 


मुंबई | हिन्दुस्तान की आवाज | संवाददाता

महाराष्ट्र राज्य की महाविकस आघाड़ी सरकार के मुख्यमंत्री उद्घव ठाकरे को मुंबई और सम्पूर्ण महाराष्ट्र में पूजा स्थल मंदिर को खोलने के लिए प्रभाग विभाग क्रमांक 153 के कार्य सम्राट नगर सेवक व बेस्ट समिति अध्यक्ष अनिल रामचंद्र पाटणकर ने हार्दिक बधाई दी । श्री गणेश मंदिर घा टला में आयोजित पूजा के दौरान अनिल पाटणकर ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि , कोरोना संक्रमण कोविड --19 की महामारी के दौरान ऐसी स्थिति पैदा हो गई थी जिसके कारण मुंबई में तत्काल प्रभाव से सभी पूजा स्थल को बंद करने का आदेश सरकार को देना पड़ा । संकट की इस घड़ी में जब किसी को कोई उपाय नहीं सूझ रहा था तब अत्यंत बुद्धिमानी से उद्धव ठाकरे ने लॉकडा उन के दौरान सभी पूजा स्थल को बंद कर दिया । इसी कारण हमने मुंबई में कोरोना को बढ़ने से रोक दिया । जान है तो जहां है । अगर हमारी जान रही तो हम आगे भी भगवान की पूजा कर लेंगे । यही सोचकर लोगों ने मंदिर जाना बंद कर दिया । श्री पाटणकर यह भी कहा कि , लोगों को जीवन देने वाले ना जाने कितने ही डॉक्टर्स और नर्स भी इस बिमारी की चपेट में आकर मौत के मुंह में समा गए । दाना पानी के लिए भी लोग तरस गए । घर से बाहर निकलने की तो बात दूर नौबत यहां तक आ पहुंची की अपनों से बात करने से भी कतराने लगे लोग । उस वक़्त भी  मैंने अपने घर से बाहर निकाल कर लोगों की भरपुर सेवाएं की थी । गरीब और जरूरतमंद लोगों  को हमने दोनों समय का खाना खाने और पीने के लिए साफ पानी दिया । आज मुझे इस बात की बेहद खुशी हो रही है कि , हमने बिना किसी स्वार्थ और लालच के परेशान हाल लोगों की हर संभव सहायता किया है और इसके आगे भी करते रहेगें ।
मुख्यमंत्री उद्घव ठाकरे के निर्देश पर महाराष्ट्र और मुंबई में पूजा के लिए मंदिर खुलने पर अनिल पाटणकर ने अपनी धर्मपत्नी समाज सेविका श्रीमती मीनाक्षी पाटणकर के साथ घाटला में  श्री गणेश मंदिर में गणेश  की आरती और पूजा अर्चना कर गणपति बाप्पा से लोक कल्याण की प्रार्थना किया । मंदिर ट्रस्ट की तरफ से अध्यक्ष विश्वनाथ पवार ने अनिल पाटणकर को शाल और गुलदस्ता देकर उनका अभिनंदन किया । इस मौके पर उपविभाग प्रमुख अशोक माहुलकर , शाखा प्रमुख उमेश करकेरा , महिला शाखा संगठिका श्रीमती अनीता महाडिक , नवाकाल के उपसंपादक शंकर कड़व , पत्रकार प्रसाद जाधव के अलावा स्थानिक सैकड़ों लोगों ने गणपति बप्पा की पूजा अर्चना कर के मंदिर का प्रसाद ग्रहण किया ।

Post a comment

Blogger