Ads (728x90)

 


मुंबई। भाजपा के वरिष्ठ नेता तथा मुंबई मनपा के पूर्व उपमहापौर बाबूभाई भवानजी ने कोरोना लाकडाऊन में शिथिलता लाकर अनलाक की प्रक्रिया शुरू होने के बाद लोगों द्वारा बरती जा रही लापरवाही पर चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि सड़कों, फुटपाथों तथा अन्य सार्वजनिक स्थलों पर लोगों के रवैए को देखकर तो ऐसा प्रतीत होता है, जैसे कोरोना महामारी जड़ से खत्म हो गई, लेकिन यह लोगों का जोखिमभरा वहम है। यह बेहद खतरनाक है। अधिकांश लोग न तो मास्क का प्रयोग कर रहे हैं, और न तो सैनिटाइजर का। सोशल डिस्टेंस तो पूरी तरह से भूल ही गए हैं। ऐसे लोगों को यह बताना जरूरी है कि कोरोना की रफ्तार कुछ हद तक ढीली भले ही पड़ी है, लेकिन कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है। वैक्सिन के टेस्टिंग की प्रक्रिया चल रही है, और जब तक यह फार्मूला सफल नहीं होता, तब तक लोगों को सतर्कता बरतने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि यह स्थिति 

सावधानी हटी, दुर्घटना घटी वाली है। लोगों ने ऐसे ही लापरवाही बरतना जारी रखा, तो कोरोना फिर से अपना तांडव दिखा सकता है, और फिर किसी को भी संभलने का मौका नहीं मिल सकेगा। *भवानजी ने कहा कि तमाम सामाजिक, राजनीतिक, व्यापारिक संगठनों द्वारा मुंबई की लोकल ट्रेन सभी के लिए शुरू करने की पुरजोर मांग की जा रही है, जो जरूरी भी है, लेकिन इसके लिए महाराष्ट्र सरकार तथा रेलवे प्रशासन को फार्मूला तय करना होगा। व्यापारिक, निजी, सरकारी कार्यालयों, कोर्ट-कचहरी, स्कूल-कालेज के संचालन का क्रमबद्ध समय निश्चित करना होगा, तभी लोकल ट्रेन की भीड़ को नियंत्रित किया जा सकता है।

Post a comment

Blogger