Ads (728x90)

भाजपा की केंद्र सरकार गत दिनों 3 किसान विरोधी बिल कैबिनेट में पास कराने में सफल हो गई । जिसके विरोध में नरेंद्र मोदी की सरकार में कैबिनेट मंत्री व शिरोमनी अकाली दल की हर सिमरन कौर ने कैबिनेट से अपना राजीनामा राष्ट्रपति को भेज दिया । उपरोक्त बातें मुंबई कोंग्रेस के प्रवक्ता अरुण सावंत ने मुंबई कोंगेस राजीव गांधी भवन में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा । उन्होंने यह भी कहा कि  , मुंबई कांग्रेस आज भाजपा और नरेंद्र मोदी का असली चेहरा लोगों को दिखाना चाहती है । आज मैं 3 तीनों किसान विरोधी बिल के बारे में आप लोगों को सविस्तार पूर्वक बताने जा रहा हूं । इनके अध्यादेश से किसान मंडी का खात्मा हो जाएगा । किसानों को उचित दाम मिल सके इसलिए  हमारी सरकार ने किसानों की फसल को 

बेचने लिए मंडी बनाया था । मंडी में किसान अपनी फसल को सरकार द्वारा निर्धारित मूल्य पर बेंच सकते है। इसका संचालन किसानों के चुने हुए प्रतिनिधि ही करते थे  । जिसमें दलालों की दाल नहीं गलती थी । लेकिन आज किसानों को मजबूत होकर दलालों को ही अपनी फसल की उपज बेचनी पड़ेगी । एक अध्यादेश में यह भी लिखा है कि , कांग्रेस का बनाया  किसानों की उपज को मंडी में बेचने वाला कानून को निरस्त किया जाता है । अध्यादेश 3 में यह कहा गया है कि , अब बड़े पूंजीपति और धनवान लोग गरीब किसानों का खेत लिज पर लेकर खुद उसमें मनमाने ढंग से फसल निकालेगें । इसलिए किसान विरोधी बिल के लिए  केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ कोंग्रेस ने पूरे देश में उग्र आंदोलन चला रखा है

Post a comment

Blogger