Ads (728x90)

-
भिवंडी पुलिस उपायुक्तालय परिमंडल 2 अंतर्गत निजामपुर पुलिस स्टेशन के पुलिस उपनिरीक्षक कोरोना संक्रमित हो गये थे ।कोरोना को मात देकर वह निजामपुर पुलिस स्टेशन में पुनः अपनी सेवा में हाजिर हो गये हैं। कोरोना को मात देकर पुलिस स्टेशन में हाजिर होने पर वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक विजय डोलस द्वारा जहां उन्हें गुलदस्ता देकर उनका अभिनंदन किया गया है,  वहीं पुलिस स्टेशन के अन्य अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा पुलिस उपनिरीक्षक इरशाद सैय्यद के ऊपर फूलों की वर्षा करके तालियां बजाकर अपने कोरोना योद्धा का भव्य  स्वागत किया गया  है।
  भिवंडी  पुलिस उपायुक्त राजकुमार शिंदे द्वारा पुलिस स्टेशन सहित पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों की कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिये विशेष सावधानी बरती जा रही है ।कोरोना संक्रमण से बचने के लिये पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों को सतर्क रहने के साथ उनके स्वास्थ्य आदि की जांच भी की जा रही है ।पुलिस स्टेशन को प्रायः सेनेटाइज भी किया जा रहा है,लेकिन मजदूर बहुल्य घनी आबादी वाला शहर होने के कारण प्रायः पुलिस कर्मी कोरोना संक्रमित हो जा रहे हैं। लॉकडाउन के शहर में पुलिस की कड़ी व्यवस्था की गई थी, जिसमें अधिक भाग दौड़  के दौरान नागरिकों सहित पुलिस कर्मियों के संपर्क में आने के कारण निजामपुर पुलिस स्टेशन के 12 पुलिस कर्मी कोरोना संक्रमित हो गये थे। जिसमें 4 पुलिस अधिकारी एवं 8 पुलिस कर्मचारियों का समावेश है। कोरोना संक्रमित होने वाले 8 पुलिस कर्मचारी कोरोना को मात देकर पुनः अपनी सेवा में हाजिर हो गये हैं ।
   निजामपुर पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक विजय डोलस ने बताया कि पुलिस उपनिरीक्षक इरशाद सैय्यद कोरोना संक्रमित  हो गये  थे । कोरोना संक्रमित की पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद उन्हें 13 जून को ठाणे के वेदांत हॉस्पिटल में  उपचार  के लिये भर्ती कराया गया था ।जहां  6 दिनों के  उपचार  में जांच के बाद जब उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई तो डॉक्टरों ने उन्हें घर भेज दिया और घर क्वारंटीन रहकर स्वास्थ्य लाभ लेने की सलाह दिया था ।लगभग 14 दिनों तक घर पर क्वारंटीन रहने के बाद वह पुनः अपनी ड्यूटी पर हाजिर हो गये हैं। ड्यूटी पर हाजिर होने पर वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक विजय डोलस सहित पुलिस स्टेशन के अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा उनका स्वागत करके स्वस्थ्य रहने की शुभकामनायें दी गई । 
   पुलिस उपनिरीक्षक इरशाद सैय्यद ने बताया कि उनका परिवार यहां नहीं रहता है, वह अपने एक पुलिस अधिकारी मित्र के साथ रहते हैं।जहां दोनों लोग डिब्बा का खाना खाते हैं ।डिब्बा वाला बहुत सारे लोगों को ले जाकर खाना देता है , वह किसके यहां जा रहा और कहां - कहां डिब्बा लेकर जा रहा है, यह पता नहीं है। इसके अलावा पुलिस स्टेशन में बहुत सारे लोग आते-जाते हैं ,शहर की घनी बस्तियों में भी जाना पड़ता है। हालांकि कोरोना संक्रमण से बचने के लिये काफी प्रयास किया गया   जाता है लेकिन कोरोना संक्रमित किसी व्यक्ति के संपर्क में आने के कारण संक्रमित हो गया। उसमें पुलिस कर्मी भी हो सकते हैं और नागरिक भी।फिलहाल कोरोना को हराकर मैं पूरी तरह से स्वस्थ होकर अपनी ड्यूटी पर आ गया हूं ।
    बतादें कि निजामपुर पुलिस स्टेशन भिवंडी का काफी चर्चित पुलिस स्टेशन रहा है, जिसके पास अपनी खुद की इमारत नहीं है। शहर के तीनबत्ती स्थित भाजी मार्केट के पास निजामपुर पुलिस स्टेशन था ,जहां बरसात के दौरान प्रायः पुलिस स्टेशन में पानी भर जाता है, बरसात  के दौरान पुलिस वाले किसी तरह से रिकॉर्ड आदि संभालकर ड्यूटी करते थे। कई बार तो बरसात के दौरान निजामपुर पुलिस स्टेशन को पास के ही स्व. मीनाताई ठाकरे नाट्यगृह की इमारत में शिफ्ट कर दिया जाता था। लेकिन नाट्यगृह जर्जर होने के कारण उसे बंद कर दिया गया है ।जिसके कारण निजामपुर पुलिस स्टेशन को मनपा मुख्यालय की पुरानी इमारत में शिफ्ट कर  दिया गया है।निजामपुर पुलिस स्टेशन के लिये कोटरगेट  क्षेत्र स्थित  सार्वजनिक निर्माण विभाग की जगह में पूर्व सन  2006 जुलाई माह  में नई इमारत बनाई जा रही थी । पुलिस स्टेशन के लिये बनाई जा रही नई इमारत का काफी हद तक काम भी हो भी चुका था। लेकिन उसी दौरान स्थानीय नागरिकों ने पुलिस स्टेशन का विरोध कर दिया था, जिसके बाद दंगा होने के कारण वातावरण तो शाांत  हो गया है परंतु इमारत का निर्माण कार्य अधर में पड़ा हुआ  है।

Post a comment

Blogger