Ads (728x90)

 भिवंडी।एम हुसेन। भिवंडी के स्व इंदिरा गांधी  उपजिला अस्पताल में गत दिनों एक कोरोना संक्रमित महिला की मौत हो गई थी।उसके परिवार ने आरोप लगाया है कि समय से ऑक्सीजन न मिलने के कारण कोरोना संक्रमित महिला की मौत हुई है। कोरोना संक्रमित महिला की हुई मौत के मामले में मुंबई भाजपा के पूर्व सांसद किरीट सोमैय्या ने इसके लिये अस्पताल को जवाबदार ठहराया है। पूर्व सांसद किरीट सोमैय्य आईजीएम उपजिला अस्पताल का दौरा करने के बाद पत्रकारों से चर्चा करते हुये उक्त प्रकार आरोप लगाया है।  इस दौरान भिवंडी शहर के भाजपा जिलाध्यक्ष संतोष एम शेट्टी, भाजपा विधायक महेश चौघुले,नगरसेवक श्याम अग्रवाल,प्रा. डॉ.सुवर्णा रावल एवं विनोद भानुशाली आदि  उपस्थित  थे।उक्त संदर्भ में आईजीएम उपजिला अस्पताल के चिकित्साधीक्षक डॉ. अनिल थोरात ने बताया कि वह महिला कोरोना संक्रमित  थी और ब्लड प्रेशर की भी बीमारी थी। 
  भिवंडी शहर में पिछले एक सप्ताह में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बड़ी तेजी से बढ़ी है । जिसके कारण कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 197 तक पहुंच गई है, जिसमें कोरोना संक्रमित 11 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि कोरोना संक्रमित 197 मरीजों में 80 मरीज ठीक होकर घर पहुंच  चुके हैं । जिसके कारण भिवंडी शहर में रिकवरी दर लगभग 41 प्रतिशत और मृत्यु दर लगभग 6 प्रतिशत है । आईजीएम उपजिला अस्पताल में तीन दिन पहले कोरोना संक्रमित एक महिला की मौत हो गई थी। कोरोना संक्रमित महिला की हुई मौत के मामले में पूर्व सांसद किरीट सोमैय्या ने कहा है कि स्व आईजीएम उपजिला अस्पताल में वेंटीलेटर की काफी कमी है। जिससे यह साबित होता है कि कोरोना संक्रमित महिला को समय से ऑक्सीजन न मिलने के कारण उसकी मौत हुई है। उपजिला अस्पताल का दौरा करने के बाद पूर्व सांसद ने आरोप लगाया है कि कोरोना संक्रमित महिला की मौत एक हत्या है, जिसके लिये अस्पताल प्रशासन जिम्मेदार है। 
   गोपालनगर के रहने वाले पति -पत्नी कोरोना संक्रमित पाये जाने पर उन्हें  उपचार  के लिये आईजीएम उपजिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसमें से उपचार  के दौरान 55 वर्षीय महिला की 31 मई को मृत्यु हो गई थी,महिला की मृत्यु होने के बाद उसके परिवार वालों ने आरोप लगाया था कि महिला को समय से ऑक्सीजन न मिलने के कारण उसकी मृत्यु हुई है। इस घटना की सत्यता की जानकारी के लिये पूर्व सांसद किरीट सोमैय्या ने आईजीएम उपजिला अस्पताल का दौरा करने के बाद मनपा आयुक्त डॉ. प्रवीण आष्टीकर एवं अस्पताल के चिकित्साधीक्षक डॉ. अनिल थोरात से विस्तृत चर्चा किया । जिसमें अस्पताल के चिकित्साधीक्षक द्वारा उन्हें बताया गया कि 100 बेड के अस्पताल में 20 बेड आईसीयू के लिये है, जिसके लिये अस्पताल में 20 वेंटीलेटर की आवश्यकता है ।लेकिन इस समय अस्पताल में मात्र चार वेंटीलेटर ही है। 
गौरतलब हो कि आईजीएम उपजिला अस्पताल को कोविड 19 अस्पताल बनाये जाने पर भिवंडी विधान सभा पूर्व के विधायक रईस कासम शेख के प्रयास से अस्पताल को चार नया वेंटीलेटर उपलब्ध कराया गया था। उस समय अस्पताल के चिकित्साधीक्षक डॉ. अनिल थोरात ने बताया था कि अस्पताल में पहले से ही चार वेंटीलेटर है। विधायक रईस शेख द्वारा चार वेंटीलेटर दिये जाने की जानकारी देते हुये मनपा आयुक्त डॉ. प्रवीण आष्टीकर ने बताया था कि भिवंडी के निजी चिकित्सालयों के 11 वेंटीलेटर भी उनके पास हैं।
 उक्त संदर्भ में  डॉ. अनिल थोरात- चिकित्साधीक्षक,आईजीएम उपजिला अस्पताल, भिवंडी ने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि अस्पताल में वेंटीलेटर की कमी है, लेकिन गोपालनगर की महिला कोरोना  संक्रमित थी, जिसे ब्लड प्रेशर की भी बीमारी थी ।         


Post a comment

Blogger