Ads (728x90)

ईदुल-अज़हा  (बकरीद) के त्यौहार का मुसलमानों में एक अनूठा महत्व है। जिसके लिये मुस्लिमों की धार्मिक भावनाओं को ध्यान में रखते हुये बकरीद का त्यौहार मनाये जाने के संबंध में राज्य सरकार से नीति निर्धारण करने की मांग  भिवंडी पूर्व विधानसभा के विधायक रईस कासम  शेख ने की है ।
  राज्य के  नगर विकास मंत्री एवं ठाणे जिला के पालकमंत्री एकनाथ शिंदे को भेजे गये पत्र में विधायक रईस शेख ने कहा है कि मुंबई शहर,उपनगर,ठाणे,भिवंडी,कल्याण, मालेगांव,नासिक,औरंगाबाद एवं उस्मानाबाद सहित महाराष्ट्र  आदि क्षेत्रों  में बड़ी संख्या में मुस्लिम समुदाय के लोग रहते हैं। ईदुल अज़हा  (बकरीद) मुस्लिमों एक बड़ा त्यौहार है। मुसलमानों में बकरीद का त्यौहार मनाना आवश्यक है,जिसके लिये मुस्लिम धार्मिक बकरा खरीदने के लिये काफी आतुर हैं । बकरीद का त्यौहार 1 अगस्त को है, जिसके लिये अब ज्यादा समय नहीं रह गया  है ।लॉकडाउन के कारण पशुवधगृह बंद रखा गया है। जिसके कारण पशुओं की खरीदी-विक्री केंद्र भी बंद है ,जिसके कारण मुस्लिम समाज में बकरीद के त्यौहार को लेकर असमंजस की स्थिति उतपन्न हो गई है। विधायक रईस शेख ने महाराष्ट्र के तमाम मुस्लिम समाज के लोगों की धार्मिक भावनाओं को ध्यान में रखते हुये बकरीद त्यौहार मनाने  के संदर्भ में राज्य सरकार से नीति निर्धारित करने का अनुरोध  किया है ।   

Post a comment

Blogger