Ads (728x90)

-
भिवंडी में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बडी  तेजी से बढ़ती जा रही है ।जिसके कारण कोरोना संक्रमित मरीजों के उपचार के लिये बनाये गये आईजीएम उपजिला अस्पताल में मरीजों के लिये जगह कम पड़ रही है। वहीं कोरोना संक्रमित मरीजों के संपर्क में आने वाले लोगों को क्वारंटीन करने के लिये टाटा आमंत्रा स्थित इस्टीट्यूशनल क्वारंटीन छोटा पड़ने लगा है।जिसके कारण भिवंडी मनपा का स्वतंत्र डेडीकेटेड हॉस्पिटल बनाने के लिये यहां के एक भवन निर्माता ने पोगांव स्थित अपने 30 हजार वर्गफिट की जगह निःशुल्क देने की अपनी स्वीकृति दे दी है। पोगांव स्थित ड्यूरा होम्स के निदेशक अरशद सिद्दीकी ने महापौर श्रीमती प्रतिभा पाटील,मनपा आयुक्त डॉ. प्रवीण आष्टीकर एवं जिलाधिकारी डॉ. राजेश नार्वेकर को पत्र लिखकर अपनी स्वीकृति दे दी है। 
  भवन निर्माता एवं डेवलपर  अरशद सिद्दीकी ने महापौर एवं मनपा आयुक्त को भेजे गये पत्र में कहा है कि भिवंडी में कोरोना वायरस का संक्रमण बड़ी तेजी से बढ़ते जा रहा है, जिसके लिये मनपा को अपना स्वतंत्र डेडीकेटेड हॉस्पिटल की आवश्यकता है। मनपा का स्वतंत्र डेडीकेटेड हॉस्पिटल बनाने के लिये वह पोगांव स्थित ड्यूरा होम्स में गाला नंबर जी-1 में 30 हजार वर्गफिट की जगह 6 महीने के लिये निःशुल्क देना चाह रहे हैं।इसके लिये भवन निर्माता सिद्दीकी ने डेडीकेटेड हॉस्पिटल बनाने के लिये अपनी स्वीकृति भी दे दी है। उन्होंने बताया कि उनके पास कई इमारतें खाली पड़ी हैं। डेडीकेटेड हॉस्पिटल बनाने के लिये वह इसके अलावा अपनी और भी जगह देने के लिये तैयार हैं।
   बतादें कि महापौर श्रीमती  प्रतिभा पाटील ने 11 जून को अरशद सिद्दीकी को पत्र लिखकर मनपा के लिये स्वतंत्र डेडीकेटेड अस्पताल बनाने के लिये जगह देने की मांग की थी। भवन निर्माता अरशद सिद्दीकी की मनपा का स्वतंत्र डेडीकेटेड हॉस्पिटल बनाये जाने की स्वीकृति देने के बाद महापौर प्रतिभा पाटील ने जिलाधिकारी डॉ. राजेश नार्वेकर को पत्र लिखकर पोगांव में 500 बेड का कोविड 19 हॉस्पिटल बनाने की मंजूरी देने की मांग की है। महापौर ने इस अस्पताल में कम से कम 150 से 200 बेड में ऑक्सीजन की सुविधा उपलब्ध कराने की मांग जिलाधिकारी से की है।इस संदर्भ में  मनपा आयुक्त डॉ. प्रवीण आष्टीकर ने भी इसकी पुष्टि की है ।

Post a comment

Blogger