Ads (728x90)

-वायरस जैसी खतरनाक बीमारी दिनों दिन बढ़ती जा रही है जिसकारण  अबतक कई सौ लोग भिवंडी में इस वायरस से प्रभावित हो चुके हैं जिसमें  डॉ भी शामिल हैं। मेडिकल डिपार्टमेंट में ( दवाखाना , अस्पताल , लैबोरेटरी के डॉक्टर्स और उनके स्टाफ , मेडिकल स्टोर्स फार्मासिस्ट ) डॉक्टर अपनी जान पर खेलकर मरीज़ों को उनकी बीमारियों से निजात दिलाने के लिए हरसंभव प्रयास कर रहे हैं।यदि  उसी डॉक्टर  को कोरोना हो जाये तो सरकार के पास या मनपा के पास उसके लिए कोई योजना ही नहीं है।इस संदर्भ में प्रसिद्ध  संस्था ऑपरेशन मुक्त भिवंडी के अध्यक्ष डॉ शफ़ीक़ अहमद सिद्दीकी ने सरकार से मांग की है कि यदि मरीज़ों को अपनी सेवाएं  देते हुए निजी अस्पताल के  डॉक्टर्स या उनके स्टाफ  को कोरोरोन वायरस +ve हो जाता है तो उसके लिए भिवंडी के साथ साथ हर शहर में अलग से एक नाजी  नरसिंग होम को कोविड 19 अस्पताल में तब्दील किया जाए जिसमे केवल डॉक्टर्स , उनके स्टाफ, का  पूर्ण रूप से उपचार  निशुल्क  सरकार की ओर से किया जाये।इसी प्रकार यदि  डॉ या उनके किसी स्टाफ का इस महामारी के कारण निधन होता है तो सरकार उनके परिवार की  तत्काल आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने के लिए मुआवज़े की  घोषणा  करे।उक्त संदर्भ में सरकार गंभीरता पूर्वक संज्ञान लेते हुए हमें आश्वासन  दे, ताकि डॉ असमंजस में पड़े हुए हैं वह बगैर भय व चिन्ता से मरीज़ों को उपचार के लिए अपनी प्रदान कर सकें।

Post a comment

Blogger