Ads (728x90)

 भिवंडी ।एम हुसेन।  कोरोना वायरस के बढते संक्रमण को रोकने के लिए  लॉकडाउन कर दिया गया है।जिसकारण सभी  लोगों की रोजीरोटी बंदहो गई है परिणामस्वरूप गरीबों, मजदूरों सहित आम जनता को पेट भरने के लिए भी समस्या बनी हुई है  ।उक्त समस्याओं के समाधान के लिए केंद्र शासन द्वारा  प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना अंतर्गत (PMGKAY) नागरिकों के सस्ता खाद्य सामग्री सरकारी राशन दुकान द्वारा निशुल्क  जीवनावश्यक वस्तुओं को आपूर्ति  कर नागरिकों को राहत दिया गया है।परंतु इस महामारी के समय में भी शहर के  निजमपुरा  स्थित  अधिकृत सरकारी शिधावाटप दुकान क्र.37 (फ ) 225  इस दुकान चालक ने  चावल,गेहूं,चना दाल व तूवर दाल आदि जीवनावश्यक वस्तुओं को ग्राहकों को वितरित न करते हुए उसे  परस्पर विक्री कर कालाबाजारी की है। इस बाबत राशन कार्ड धारकों ने अन्न पुरवठा विभाग के समक्ष  शिकायत दर्ज कराई  थी ।जिसे गंभीरतापूर्वक संज्ञान लेते हुए शहर पुरवठा अधिकारी किरण गवांदे  ने  पुरवठा पथक की सहायता से सरकारी राशन दुकान की  जांच की गई  तो शासन द्वारा  प्राप्त हुई  76 हजार 551 रूपये  का चावल ,गेहूं ,चना दाल व तूवर दाल आदि जीवनावश्यक वस्तुओं की कालाबाजारी करने का मामला प्रकाश में आया है ।जिसमें  प्रियदर्शनी महिला स्वयंसहायता  बचत गट की अध्यक्षा यमुनाबाई मुरलीधर मुंडे व राजेश केशव राऊत इन दोनों  द्वारा  सांठगांठ करके यह कृत्य किये जाने की पुष्टि हुई है । जिसकारण  पुरवठा अधिकारी किरण गवांदे की शिकायत पर इन दोनों के विरुद्ध  शांतीनगर पुलिस स्टेशन में फौजदारी  का मामला दर्ज  कराया गया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है जिसकी विस्तृत जांच पुलिस  एपीआय राज माली कर रहे हैं।







Post a comment

Blogger