Ads (728x90)

भेलसर(अयोध्या)रुदौली नगर के काजिये शरा ने जिलाधकारी अयोध्या को एक  लिखित पत्र के माध्यम से अलविदा(जुम्मा)व ईदुल फितर की नमाज़ के लिए आम नमाज़ियों के लिए अब मस्जिदें खोलने की मांग की है।
काजिये शरा रूदौली मौलाना अब्दुल मुस्तफा सिद्दीकी ने जिलाधकारी से मांग करते हुए कहा कि कोरोना एक खतरनाक वायरस बीमारी है जो न हिन्दू देखती न मुसलमान यह किसी को भी लग सकती है डाक्टरों के मुताबिक कोरोना वायरस से बचाव के लिए सरकार द्दारा लागू किया गया लॉक डाउन का पालन करना ही बेहतरीन इलाज है यही वजह है कि सरकार ने जो लॉकडाउन का कानून देश मे लागू किया है हम सभी लोग उसका कड़ाई के साथ पालन करते हैं और आगे भी जो देश हित में कानून होगा हम सभी लोग उसका भी पालन करेंगे।काजिये शरा ने मांग करते हुए कहा कि अलविदा(जुम्मा)व ईदुल फितर की नमाज़ के लिए आम नमाज़ियों के लिए अब मस्जिदें खोली जाएं और मस्जिदों में नमाज़ पढ़ने की इजाजत दी जाए।मौलाना ने कहा कि रमज़ान के आखिरी जुम्मा अलविदा और ईदुल फितर की नमाज़ों को पढ़ने के लिए वक्त दिया जाए ताकि हम सभी लोग एक साथ मिलकर नमाज़े जुम्मा अलविदा और ईदुल फितर अदा कर सकें और खतरा कोरोना जैसी महामारी के लिए और साथ ही साथ प्यारे मुल्क व तरक्की के लिए दुआ कर सकें।यह त्योहार साल में सिर्फ एक बार ही आता है जिसमें बच्चे हों या बूढ़े सभी को अलविदा व ईद की नमाज़ मस्जिदों में पढ़ने में ही खुशी होती है।इस सम्बंध में एसडीएम विपिन कुमार सिंह ने बताया कि पूरे देश मे लॉक डाउन लागू है।जिसका का पालन कराया जाएगा।शासन स्तर से सभी ज़ोन के लिए जो निर्देश प्राप्त होगा उसके अनुसार कार्यवाही की जाएगी।




Post a comment

Blogger