Ads (728x90)

दिल्ली के निजामुद्दीन में मरकज जमात में शामिल होने आए लोगों में कोरोना लक्षण पाए जाने के बाद जहां देश में हड़कंप मच गया तो वही उत्तर प्रदेश में भी ऐसे लोगों की पहचान के लिए सभी जिले के प्रशासन को एलर्ट कर दिया गया । कन्नौज की एक मस्जिद में ऐसे ही 11 लोगों के होने की सूचना के बाद जिला प्रशासन के आलाधिकारी मौके पर पहुंके और निजामुद्दीन से आए सभी लोगों थर्मल स्क्रीनिंग कर 14 दिन के लिए क्वॉरेंटाइन कर उनको एहतियात बरतने की सलाह दी।

कन्नौज जिला प्रशासन को सूचना मिली कि दिल्ली के निजामुद्दीन से मरकज जमात में शामिल होने के बाद कुछ लोग कन्नौज आये हुए हैं और शहर के हाजी गंज मोहल्ले की एक मस्जिद में 21 तारीख से रुके हुए हैं । इस सूचना के मिलते ही हड़कंप कट गया और मौके पर सदर एसडीएम शैलेश कुमार और सीओ श्रीकांत प्रजापति डॉक्टर टीम के साथ वहां पहुंचे। उन्होंने जब पूरी जानकारी की तो मालूम पड़ा 20 मार्च को निजामुद्दीन से कालिंद्री एक्सप्रेस द्वारा करीब 11 लोग कन्नौज पहुंचे थे। जो सभी शामली जिले के रहने वाले हैं। डॉक्टर्स की टीम ने इन सभी 11 लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग की और इन सभी लोगों को क्वॉरेंटाइन रहने की सलाह दी । मामले में डॉक्टर रविंद्र साहू की माने तो यह सभी लोग 20 मार्च को निजामुद्दीन में मरकज मैं शामिल होने के बाद 21 मार्च को कन्नौज आए थे । इनकी थर्मल स्क्रीनिंग की गई जिसमें यह लोग नॉर्मल पाए गए । लेकिन एहतियातन इनको 14 दिन के लिए क्वॉरेंटाइन किया गया है। इस बीच अगर इनमें कुछ लक्षण पाए जाते हैं तो हम लोगों से संपर्क करने का निर्देश दिया गया है ।

बाइट - डॉक्टर रबीन्द्र साहू - थर्मल स्क्रीनिंग करने वाला डॉक्टर  

Post a comment

Blogger