Ads (728x90)

 भिवंडी।एम हुसेन। कोरोना वायरस के संदर्भ में समाचार संकलन के लिये खंडूपाड़ा  क्षेत्र स्थित  गये एबीपी माझा के स्थानीय पत्रकार अनिल वर्मा के ऊपर गुटखा माफिया के गुर्गों ने हमला करके उनका कैमरा छीनकर तोड़ दिया  और उसे लेकर फरार हो गये थे ।इस मामले में शांतिनगर पुलिस ने देर रात चाविंद्रा रोड से फरार हो रहे तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है और उनके पास से कैमरा भी बरामद कर लिया है । 
   ज्ञात हो  कि खंडूपाड़ा  क्षेत्र  में एक पान की दूकान के सामने पान एवं गुटखा खाकर सड़क पर थूका गया था ,जिसकी जानकारी मिलने पर एबीपी माझा के पत्रकार अनिल वर्मा वहां गये थे और गुटखा खाकर सड़क पर थूक रहे एक व्यक्ति की वीडियो क्लिप बना रहे थे। पान की उसी दूकान के पास एक दूकान से गुटखा की विक्री की जाती है, गुटखा माफिया को शंका हुई  कि उनकी दूकान का वीडियो क्लिप बनाया जा रहा है। जिसके कारण गुटखा माफिया के गुर्गों ने अनिल वर्मा के ऊपर हमला कर दिया और उनका लगभग सवा लाख रूपये मूल्य का कैमरा आदि छीनकर तोड़ दिया  और उसे लेकर फरार हो गये  थे । इस मामले  की जानकारी  शांतिनगर पुलिस को मिलने पर पुलिस ने पान की दूकान के पास लगे सीसीटीवी फुटेज को देखने के बाद पत्रकार अनिल वर्मा की शिकायत पर अशरफ नामक एक व्यक्ति के विरुद्ध मामला दर्ज कर लिया था ।लेकिन उक्त मामले को  पुलिस उपायुक्त राजकुमार शिंदे द्वारा निर्देश दिये जाने के बाद पुलिस सक्रिय  हुई। और शांतिनगर पुलिस स्टेशन की वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक श्रीमती  ममता डिसूजा ने हमलावरों की धरपकड़ के लिये पुलिस की एक टीम लगा दी थी, देर रात पुलिस को मुखविर  द्वारा  पता चला कि तीनों हमलावर चाविंद्रा रोड से शहर छोड़कर फरार होने वाले हैं। मुखविर  द्वारा  सूचना मिलते ही पुलिस की टीम  चाविंद्रा स्थित फाउंटेन होटल के पास जाल बिछाकर अशरफ अली मो.सादिक अंसारी (43) निजामपुरा, मो.वसीम मुमताज शेख (38) गैबीनगर एवं इरशास अहमद उर्फ़ दानिश (38) मिल्लतनगर को  हिरासत में  ले लिया और भादंवि 394,427 सहित क्रिमिनल अमेंडमेंट एक्ट 7 (1) अ के तहत देर रात  इन तीनों के विरुद्ध मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है । पुलिस ने उनके पास से छीना गया कैमरा भी बरामद कर लिया है । पुलिस ने आज  उक्त तीनों  को न्यायालय में  पेश किया जिन्हें  न्यायालय ने एक दिन के लिये पुलिस हिरासत में भेज दिया है ।
 वहीं  महाराष्ट्र राज्य मराठी पत्रकार संघ सहित भिवंडी के सभी पत्रकार संगठनों ने इस घटना की कड़ी निंदा करते हुये आरोपियों के विरुद्ध फौजदारी एवं पत्रकार सुरक्षा अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई करने की  मांग पुलिस उपायुक्त राजकुमार शिंदे से की है ।

Post a comment

Blogger