Ads (728x90)

 भिवंडी ।एम हुसेन।  मुंबई-नासिक राष्ट्रीय महामार्ग पर पड़घा टोलनाका  स्थित  दो घंटे से  यातायात बाधित होने के कारण एक एंबुलेंस भी फंस गया था । जिसके मरीज की हालत काफी गंभीर थी , जिसके कारण एंबुलेंस को जब भिवंडी के  राकापा  नेता ने रास्ता देने की मांग की तो टोलनाका के दंबंग कर्मचारियों ने एंबुलेंस को रास्ता देने के बजाय उन्ही से अभद्रता  करनी शुरू कर दी । उन्होंने टोलनाका के कर्मचारियों के विरुद्ध कार्रवाई करने एवं टोलनाका का ठेका रद्द करने की मांग की है ।
   उक्त संदर्भ में राकापा नेता बालासाहेब निंबालकर ने बताया कि शनिवार एवं रविवार को छुट्टी होने के कारण वह अपने परिवार के साथ शिरडी साईबाबा का दर्शन करने के लिये जा रहे थे, लेकिन मुंबई-नासिक राष्ट्रीय महामार्ग पर पड़घा टोलनाका  स्थित  दो घंटे से यातायात  बाधित  था ।उसी समय यातायात बाधित  होने के कारण  एक एंबुलेंस भी फंसा था । एंबुलेंस के मरीज की हालत को देखते हुये उन्होंने टोलनाका कर्मचारियों से एंबुलेंस को रास्ता देने की मांग किया था । उस दौरान  राकापा नेता निंबालकर के साथ अन्य वाहनों के यात्रियों ने भी उतरकर एंबुलेंस को रास्ता देने का अनुरोध किया ।जिसके कारण टोलनाका कर्मचारी नाराज हो गये और  राकापा नेता निंबालकर के साथ धक्कामुक्की करने लगे । उन्होंने बताया कि टोल वसूली में लापरवाही करने के कारण दो घंटे से यातायात  बाधित  था। दो दिन छुट्टी होने के कारण मुंबई सहित उपनगरों से भारी संख्या में पर्यटक शिर्डी एवं नासिक आदि  क्षेत्रों  में दर्शन करने के लिये जा रहे थे। टोलनाका की दुर्व्यवस्था,टोलनाका कर्मचारियों की दादागीरी एवं यातायात को लेकर कोई नियोजन न होने के कारण प्रायः यातायात  बाधित  हो जाता है ।जिससे लोगों को भारी परेशानी का समाना करना पड़ता है । उन्होने बताया इससे कई बार यातायात  बाधित  होने के कारण एंबुलेंस फंस चुके हैं।राकापा नेता निंबालकर ने अभद्र व्यवहार करने वाले   मुंहजोर टोल कर्मचारियों के विरुद्ध कार्रवाई करने एवं टोलनाका का ठेका रद्द करने की मांग की है । 

Post a comment

Blogger