Ads (728x90)

श्री गंभीरानंद आश्रम में किया गया शिव-पार्वती विवाह एवं पीसपार्क में किया गया चिकित्सा शिविर का आयोजन ।

भिवंडी ।एम हुसेन। महाशिवरात्रि के अवसर पर भिवंडी के शिव मंदिरों में भगवान शंकर का जलाभिषेक करने के लिये सुबह से ही भक्तों की  लाइन लगी रही ।भिवंडी शहर के पुरातन रामेश्वर मंदिर की ओर से पालकी निकाली गई तथा अभिषेक किया गया ।इसी प्रकार शहर   सहित  ग्रामीण क्षेत्रों के शिव मंदिरों में विभिन्न प्रकार के धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया  था। जिसमें कामतघर के श्री गंभीरानंद आश्रम के श्री त्रिलोकेश्वर महादेव मंदिर में सात दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन करके शुक्रवार को महाशिवरात्रि के दिन शिव-पार्वती विवाह का आयोजन किया गया था । कामतघर स्थित पीसपार्क में प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय द्वारा निःशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया था । इस दौरान सुरक्षा की दृष्टि से पूरे शहर में पुलिस का कड़ा बंदोबस्त किया गया था। शहर के अधिकांश मंदिरों के पास सहित प्रमुख स्थानों पर पुलिस कर्मियों को तैनात किया गया था ।
   कामतघर के ठाकरापाड़ा रोड स्थित स्वामी श्री गंभीरानंद आश्रम के श्री त्रिलोकेश्वर महादेव मंदिर में सात दिवसीय महाशिवरात्रि महोत्सव का आयोजन किया गया था, जिसमें पाप नाश के लिए महाशिवरात्रि जागरण एवं दीपदान,पारिवारिक शांति के लिए शिवमहात्म कथा एवं मंगलमय भजन कीर्तन,धनलक्ष्मी एवं संतान प्राप्ति के लिए शिवव्रतानुष्ठार्थ साधना शिविर,आकस्मिक दुर्घटना से मुक्ति के लिए महामृत्युंजय हवनात्मक यज्ञ,रोग निवारण के लिए योगासन एवं प्राणायाम का अभ्यास,एकाग्रता एवं स्मरण शक्ति वृद्धि के लिए सारस्वत्य बालविद्या संस्कार एवं परम् सुख मोक्ष प्राप्ति के लिए गुरुदीक्षा संस्कार का आयोजन किया गया। जिसमें छात्रों का सारस्वत्य बालविद्या संस्कार किया गया। पांच दिन तक अनुष्ठान में बैठे 40 भक्तों द्वारा प्रतिदिन द्वादश पार्थिवलिंग का रुद्राभिषेक कराया गया और शिवरात्रि की रात के चारों प्रहर में काशी से आये पं.श्यामधर पांडेय द्वारा लगभग दो सौ लोगों से नर्मदेश्वर महादेव का रुद्राभिषेक कराया गया। शिवरात्रि के चारों प्रहर में पं. श्यामधर पांडेय एवं ब्रह्मचारी श्री प्रेमस्वरूप चैतन्य द्वारा शिवमहात्म्य पर कथा सुनाई गई। महाशिवरात्रि के महात्म्य की जानकारी देने के लिए आश्रम के आध्यात्मिक विज्ञान केंद्र में एक पर्दशनी का आयोजन किया गया था । जिसे देखने के लिए भक्तों की भारी भीड़ लगी रही। इस अवसर पर डॉ. प्रभाकर विश्वकर्मा ,दीपमाला विश्वकर्मा , शशिनाथ मिश्रा,अमित तिवारी,अमीषा शर्मा एवं मनीषा झा द्वारा भजन प्रस्तुत किया गया । सायं पांच बजे शिव पार्वती के विवाह का आयोजन किया गया था ,जिसमें आश्रम से भगवान शंकर की बारात निकालकर त्रिलोकेश्वर महादेव मंदिर के प्रागंण में शिव-पार्वती विवाह संपन्न हुआ। त्रिलोकेश्वर महादेव मंदिर के सामने रात में दीपदान का आयोजन किया गया था, जिसमें भारी संख्या में लोगों ने दीपदान किया।
    इसी  प्रकार  तीनबत्ती स्थित नीलकंठेश्वर मंदिर,कापआली स्थित स्वंयभू रामेश्वर मंदिर,गोकुलनगर स्थित खड़बड़ेश्वर मंदिर,ब्राह्मणआली स्थित भीमेश्वर मंदिर,चांदमल कंपाउंड स्थित काशी विश्वनाथ मंदिर,कल्याण रोड स्थित मारकंडेश्वर मंदिर,एवं सोनाले स्थित दिंडेश्वर महादेव मंदिर में सुबह से भक्तों की भीड़ लगी रही ,वहीं भिवंडी तालुका के  खारबाव ,बंगला पाडा स्थित शिवमंदिर में भी सुबह से भक्तों की भीड लगी रही । श्री रामेश्वर मंदिर एवं नील कंठेश्वर सहित कई मंदिरों में पालकी निकाली गई थी। कई जगहों पर ठंडाई एवं प्रसाद का भी आयोजन किया गया  था।
कामतघर स्थित पीसपार्क में प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय द्वारा अद्भुत शिवदर्शन का आयोजन करके सुबह नौ बजे से निःशुल्क चिकित्साशिविर का आयोजन किया गया था। जिसमें लगभग दो सौ लोगों का ब्लड शुगर,हड्डी में कैल्शियम की कमी,ईसीजी आदि की जांच की गई।इसी प्रकार  यहां शराब,तंबाखू,सहित अन्य व्यसनों को छोड़ने के लिये लोगों को निःशुल्क औषधि  भी दी गई । 

Post a comment

Blogger