Ads (728x90)

भिवंडी ।एम हुसेन। भिवंडी मनपा प्रशासन के निष्क्रिय अधिकारियों के परिणाम स्वरुप मनपा  के राजस्व का भारी नुकसान हुआ है जिस कारण मनपा आर्थिक संकट में है जो एक गंभीर समस्या बनते जा रही है। इसलिए मनपा   क्षेत्र अंतर्गत बकाया कर वसूली को लेकर मनपा आयुक्त डॉ  प्रवीण आष्टीकर हुए  सख्त । मनपा प्रभारी उपायुक्त कर मूल्यांकन,निर्धारण श्रीमती वंदना गुुल्वे के कुशल मार्गदर्शन में सहायक आयुक्त डॉ  सुनील भालेराव  कर वसूली पथक टीम के साथ संपत्ति  धारकों से बकाया कर वसूलने के लिए जुटे हैं ।मनपा प्रभाग समिति क्रमांक 4 अंतर्गत चौथानी कंपाउंड में पूर्व  30 वर्षों से 40 कारखाना मालिकों द्वारा  कर विभाग  से  कर मूल्यांकन नहीं कराए जाने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है ।  जिससे मनपा को प्रतिवर्ष लाखों रुपए के राजस्व का नुकसान होना बताया जा रहा  है ।मनपा आयुक्त डॉ प्रवीण  आष्टीकर के आदेशानुसार  सहायक आयुक्त डॉ भालेराव ने  सभी 40 कारखानों को सील  कर दिया है।बकाया  कर वसूली को लेकर मनपा प्रशासन  द्वारा  की जा रही  कड़क कार्रवाई से कर बकायेदारों में हडकंम्प मचा हुआ है।मनपा आयुक्त ने कर वसूली कार्य में लगे अधिकारियों, कर्मचारियों से  बकायेदारों द्वारा बकाया कर का भुगतान न करने पर  संपत्ति   जब्त करने के लिए    आदेश दिया है ।
 उल्लेखनीय है  कि, मनपा प्रभारी उपायुक्त कर मूल्यांकन एवं निर्धारण श्रीमती वंदना गुल्वे के नेतृत्व में सहायक आयुक्त सुनील भालेराव , प्रभाग समिति क्रमांक 4 के  सहायक आयुक्त शौमीम अंसारी, कार्यालय अधीक्षक संजय पुण्यर्थी, कर निरीक्षक सुधाकर पाटील,पर्यवेक्षक आर बी चन्ने ,एम टी वलवी,लिपिक रमेश गायकवाड,गजानन पाटील ,महेंद्र निकम  सहित  भारी संख्या में  कर्मचारियों को लेकर  प्रभाग समिति क्रमांक क्षेत्र अंतर्गत  चौथानी कंपाउंड स्थित कादिर पटेल की   संपत्ति  क्रमांक 804,805,816,817,832  जो कुल 6 पावरलूम केे कारखानों का बकाया  कर 1 लाख 87 हजार रुपये वसूली हेतु गये थे।कर  मामलों की तहकीकात के उपरांत सहायक आयुक्त डॉ सुनील भालेराव को ज्ञात हुआ कि, क्षेत्र स्थित 1989 में निर्माण हुये 40 पावरलूम कारखानों का कर मूल्यांकन-निर्धारण नहीं किया गया है जिससे प्रतिवर्ष मनपा का लाखों रुपया राजस्व नुकसान हुआ है,40 पावरलूम कारखानों पर कर का निर्धारण न होने का गंभीर मामला संज्ञाान में आते ही सहायक आयुक्त सुनील भालेराव ने मनपा आयुक्त डॉ प्रवीण आष्टीकर एवं प्रभारी  कर उपायुक्त गुुुलवे को अवगत कराया । मनपा आयुक्त आष्टीकर के आदेश पर करौ निर्धारण न होने वाले 40 पावरलूम कारखानों पर सहायक आयुक्त भालेराव ने सील  कर दिया है ।मनपा प्रशासन द्वारा संपत्ति कर बकायेदारों  के विरुद्ध  की जा रही कड़क कार्रवाई से बकायेदारों में हड़कंप मचा हुआ है  ।
   सूत्रों  द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार  भिवंडी शहर में हजारों मकानों,  कारखानों, दुकानों का कर मूल्यांकन, निर्धारण मालिकों द्वारा नहीं कराये जाने के कारण  मनपा के राजस्व का भारी नुकसान हो  रहा है ।इस संदर्भ में  क्षेत्रीय मनपा अधिकारी सब कुछ जान कर भी अपनी
भष्ट कार्यप्रणाली के कारण  मूक दर्शक बने  हुये हैं ,परिणाम स्वरुप मनपा का कर संपत्ति धारकों  पर लगभग  300 करोड़ रुपये  से अधिक बकाया है।बकाया  कर की वसूली न होने से भिवंडी शहर का  विकास बाधित हो रहा है जिसकारण   शहर वासियों  को मूलभूत सुविधायें उपलब्ध कराने में  मनपा प्रशासन  असफल साबित हो रहा है ।वहीं  जागरूक शहरवासियों का कहना है कि, भिवंडीकर सारी सुविधायें तो चाहते जरूर हैं लेकिन कर का भुगतान  नहीं करना चाहते हैं,कर वसूली के दौरान स्थानीय नगरसेवकों द्वारा हस्तक्षेप  किये जाने का भी मामला प्रकाश में आया है । स्थानीय नगरसेवकों के  हस्तक्षेप  के कारण मनपा कर  वसूली कर्मी  नियमित रूप से कर वसूली कार्यों को  अंजाम नहीं दे पाते हैं ।मनपा आयुक्त डॉ  प्रवीण आष्टीकर नें कर बकायेदारों पर कड़क कार्रवाई किए जाने के संकेत दिये हैं ।बकायेदारों द्वारा कर राशि का भुगतान  नहीं  करने  पर कर बकायेदारों की संपत्ति  सील किये जाने के निर्देश कर वसूली कर्मियों को दिये गये  हैं ।ज्ञात हो  कि, भिवंडी मनपा द्वारा विगत 2 माह से अभय योजना चलाई गई है ,जिसके अनुसार  फरवरी तक बकाया कर का भुगतान  करने  पर 75 प्रतिशत ब्याज  छूट एवं मार्च माह में बकाया राशि के ब्याज  में 50 प्रतिशत छूट का प्रावधान बकायेदारों की सुविधा हेतु किया गया है ।उक्त प्रकार की  जानकारी मनपा प्रभारी कर मूल्यांकन,निर्धारण उपायुक्त श्रीमती वंदना गुल्वे ने दी है, इस प्रकार  कर बकायेदारों
 से शहर के  विकास हेतु  व सख्त कार्रवाई से बचाव हेतु बकाया कर का भुगतान  किये  जानें के लिए आह्वान किया है ।

Post a comment

Blogger