Ads (728x90)

भिवंडी ।एम हुसेन। भिवंडी के  सह दुय्यम निबंधक कार्यालय क्र ३ में चलन भरने के लिए बोगस पावती  द्वारा  लगभग  २७ लाख ११ हजार ४००  रुपये का  घोटाला   करने का  सनसनीखेज  घटना प्रकाश में आया  है ।इस  घोटाला   प्रकरण में  नारपोली पुलिस स्टेशन  ने मामला दर्ज कर लिया है और इस  प्रकरण में  तीन  लोगों को  गिरफ्तार कर लिया है ।उक्त तीनों  आरोपियोंं  को न्यायालय में  पेश किया गया जिसे  मा न्यायालय ने १० फरवरी  तक  पुलिस हिरासत में रखने का आदेश दिया है । 
             भिवंडी के  सहायक दुय्यम निबंधक कार्यालय क्र ३ में बांधकाम व्यावसायिक का एजेंट व कार्यालय में  तात्पुरता  स्वरूप में  काम करने वाले संगणक चालक  द्वारा  ११ लाख ७४ हजार ४०० रुपये का घोटाला करने  का  मामला  निष्पन्न हुआ है, इस मामले में   कार्यालय के  वरिष्ठ लिपिक दिलीप आव्हाड  ने  घोटाला   प्रकरण में  नारपोली पुलिस स्टेशन में  श्रवणकुमार सहदेव गजम (  ३३  निवासी  पद्मानगर ) व कार्यालय में  तात्पुरता संगणक ऑपरेटर नागेश शिवाजी क्यातमवार (  २८ ) इन दोनों के विरुद्ध शिकायत  दर्ज कराई थी।  उक्त  प्रकरण की विस्तृत जांच  करते  समय नारपोली पुलिस ने सहायक दुय्यम निबंधक कार्यालय के  रिकॉर्ड की  जांच की  तो  इसमें लगभग  १५ दस्तावेज में  घोटाले  का मामला  निष्पन्न  हुआ है जिसमें  लगभग  २७ लाख ११ हजार ४०० रुपये का घोटाला  करने  का मामला  निष्पन्न  हुआ है। उक्त  घोटाला  प्रकरण में  सहायक दुय्यम निबंधक कार्यालय क्रमांक ३  के  कर्मचारी के  सहभागी होने की  शंका पुलिस द्वारा  व्यक्त की जा जा रही। इस मामले में वरिष्ठ लिपिक दिलीप आव्हाड  की  फरियाद  पंजीकृत करने के  बाद   इस कार्यालय के  लिपिक अरुण कंखर , महिला लिपिक एल एस सांगले , संगणक ऑपरेटर दीपक शिंदे  के  विरुद्ध मामला दर्ज कर लिया है जो सभी कर्मचारी फरार बताये जा रहे हैं। तथा श्रवणकुमार सहदेव गजम, नागेश क्यातमवार , व दीपक शिंदे  इन तीनों को पुलिस ने गिरफ्तार कर   उन्हें  न्यायालय में पेश किया  था जिसे मा न्यायालय ने   १० फरवरी तक पुलिस  हिरासत में रखने का आदेश दिया है ।इस प्रकार की जानकारी  नारपोली पुलिस स्टेशन के  वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक मालोजी शिंदे  ने दी है  ।  

Post a comment

Blogger