Ads (728x90)

भिवंडी ।एम हुसेन।भिवंडी शहर में मेट्रो रूट को लेकर अफवाहों का बाजार गर्म होने के कारण असमंजस की स्थिति बनी हुई है,वहीं कुछ लोग शहर के अंदर से मेट्रो न जाए इसकी कोशिश में जुटे हुए हैं।जबकि कुछ लोग मेट्रो शहर  से होकर ही जाए इसके लिए भिवंडी मेट्रो मंच की स्थापना कर शहर के विकास के लिए मेट्रो को जरूरी बताया है।इसके लिए कार्यशाला का भी आयोजन  किया गया ,जहां सभी ने एक सुर से मेट्रो को शहर  से  होकर जाने का समर्थन किया है।
     गौरतलब है कि मेट्रो -5 ठाणे से भिवंडी से कल्याण तक जाने वाली है,जिसका काम भी ठाणे से भिवंडी के पूर्णा क्षेत्र स्थित  तक प्रगति पर है।इसी बीच भिवंडी शहर  से होकर जाने वाले मेट्रो के रूट बदलाव के लिए कुछ लोग जुट गए हैं।जो पालक  मंत्री एकनाथ शिंदे से भेंटवार्ता कर  मेट्रो का मार्ग बदलने की मांग पर अड़े हुए हैं।जिसके मद्देनजर भिवंडी- कल्याण प्रस्तावित मेट्रो मार्ग संबंधी शिकायतों की 15 दिवसीय मनपा मुख्यालय में सुनवाई हुई।भिवंडी मनपा नगर रचनाकार श्रीकांत देव के अनुसार,15 दिनों में  लगभग  1040 लोगों ने अपनी आपत्तियां मेट्रो रुट को लेकर दर्ज कराई हैं और शहर विकास को प्राथमिकता देते हुए मेट्रो रुट को भिवंडी कल्याण मार्ग से अन्यत्र परिवर्तित किये जाने पर जोर दिया है।हालांकि उन्होंने अभी रूट बदलने जैसा कोई भी आदेश सरकार की  ओर से न आने की बात कही है।इधर शहर से मेट्रो के जाने के विरोध के बीच कुछ लोग भिवंडी मेट्रो मंच का निर्माण कर मेट्रो को हर हाल में शहर के अंदर कल्याण रोड से ही मेट्रो के जाने पर बल दिया है।मंच के संयोजक डॉ दयानंद केणी  ने  बताया कि मेट्रो का कुछ लोग विरोध कर रहे है। जिन्हें शहर के विकास के बजाय अपनी संपत्ति का भाव बढ़ाने व अपनी संपत्ति को टूटने से बचाना है।उन्होंने बताया कि शहर के विकास के लिए मेट्रो का शहर के अंदर से जाना जरूरी है।इसके लिए मंच की  ओर से मेट्रो के  हित में शहर के नजराना कंपाउंड  स्थित रोटरी क्लब हॉल में  रविवार, 23 फरवरी, 2020 को  एक विशेष बैठक का आयोजन  किया गया।जहां पर हजारों की संख्या में उपस्थित लोगों ने शहर के विकास के लिए, मेट्रो ट्रेन भिवंडी शहर से अनुमोदित योजनाओं के अनुसार और निर्धारित सीमा तक शुुुरु होने पर जोर दिया है ।अब देखना है मेट्रो की इस जंग में कौन जीतता है और कौन हारता है इस परिणाम पर सभी की निगाह टिकी हुई है। 

Post a comment

Blogger