Ads (728x90)

-मस्जिदों के ट्रस्टियों एवं इमामों की बुलाई गई  आवश्यक बैठक

 भिवंडी ।एम हुसेन। संविधान बचाओ संघर्ष समिति द्वारा एनआरसी,सीएए एवं एनपीआर के विरोध में आयोजित भिवंडी शाहीनबाग आंदोलन पिछले 13 दिनों से अनवरत चल रहा है ।नेशनल एलाइंस अगेंस्ट एनआरसी,सीएए एवं एनपीआर के लिये मुंबई के आज़ाद मैदान में होने वाली महारैली को सफल बनाने के लिये भिवंडी शाहीनबाग आंदोलन में तैयारी की जा रही है। जिसके लिये संविधान बचाओ संघर्ष समिति  द्वारा  भिवंडी के सभी मस्जिदों के इमामों एवं ट्रस्टियों की आवश्यक बैठक भी शाहीनबाग आंदोलन में बुलाई है।
   बतादे कि केंद्र सरकार द्वारा एनआरसी,सीएए एवं एनपीआर लागू करने के बाद से शहर में विरोध प्रदर्शन एवं आंदोलन शुरू कर दिया गया था।जिसके बाद सरकार का ध्यान लोगों के विरोध प्रदर्शन की तरफ आकर्षित करने के लिये एडवोकेट. किरण चन्ने,मौलाना औसाफ़ फलाही,मो अली शेख, मो.फाजिल अंसारी एवं कॉम.विजय कांबले के नेतृत्व में संविधान बचाओ संघर्ष समिति की स्थापना करके धोबीतालाब स्थित परशुराम टावरे स्टेडियम में एक विशाल जनसभा का आयोजन किया गया था।लेकिन एनआरसी एवं सीएए के विरोध में दिल्ली में शुरू शाहीनबाग आंदोलन की तर्ज पर संविधान बचाओ संघर्ष समिति द्वारा भिवंडी-नाशिक रोड पर  ममता हॉस्पिटल के पास मिल्लतनगर स्थित   मैदान में 31 जनवरी से शाहीनबाग आंदोलन शुरू कर दिया गया है। जहां हजारों की संख्या में महिलाओं के साथ पुरुष एवं छात्र-छात्रायें भी शामिल हो रही हैं।हालांकि बिना पुलिस अनुमति के चलाये जा रहे इस आंदोलन को लेकर निजामपुर पुलिस द्वारा दो दर्जन से अधिक आयोजकों को नोटिस देकर उनके विरुद्ध मामला दर्ज किया गया  है । लेकिन पुलिस की नोटिस के बावजूद शाहीनबाग आंदोलन को लेकर न तो आयोजकों के हौंसले में कमी आई है और न ही आंदोलन में शामिल होने वाली महिलाओं एवं छात्र-छात्राओं की संख्या में कमी आई है।   
    संविधान बचाओ संघर्ष समिति के  संयोजक  एडवोकेट किरण चन्ने ने  बताया कि एनआरसी,सीएए एवं एनपीआर का कड़ा विरोध करने के लिये पूर्व न्यायाधीश बी.जे.कोलशेपाटील के नेतृत्व में आज़ाद मैदान में  आगामी 15 फरवरी को महारैली का आयोजन किया गया है। जिसको सफल बनाने के लिये मौलाना महमूद दरियाबादी,फरीद अहमद शेख,अनीस अशरफी,हसीब भाटकर एवं हाफिज इकबाल चूनावाला का एक शिष्टमंडल भिवंडी संघर्ष समिति के संयोजक एड. किरण चन्ने,मौलाना औसाफ़ फलाही,मो. फाजिल अंसारी,मौलाना मुफ्ती मो.हुजैफा,मो.अली शेख,डॉ, शफीकअहमद सिद्दीकी एवं मो. शमीम अंसारी सहित अन्य सदस्यों के साथ बागेफिरदौस स्थित सनोबर हाल में एक बैठक की गई । जिसमें आज़ाद मैदान की महारैली को सफल बनाने की अपील की गई है , महारैली के आयोजकों ने भिवंडी शाहीनबाग आंदोलन में जाकर संबोधित करते हुये कहा कि राज्य सरकार द्वारा एनआरसी एवं सीएए का ज़ुबानी विरोध नहीं चलेगा, अन्य राज्यों की तरह महाराष्ट्र सरकार को भी विधानसभा में एनआरसी,सीएए एवं एनपीआर के विरोध में प्रस्ताव लाना चाहिये । उन लोगों ने कहा कि पूर्व न्यायाधीश बी.जे.कोलेशेपाटील के नेतृत्व में 15 फरवरी को आज़ाद मैदान में महारैली का आयोजन करके राज्य सरकार पर विधानसभा में एनआरसी,सीएए एवं एनपीआर के विरोध में प्रस्ताव लाने के लिये दबाव बनाया जायेगा। जिसके लिये पूर्व  एक महीने से पूरे राज्य में घूम-घूमकर प्रचार प्रसार किया जा रहा है। वहीं यह भी  बताया कि मुंबई की महारैली के आयोजक इसके लिये वहां के चर्चो में जाकर पादरियों एवं ईसाईयों से संपर्क करके महारैली को सफल बनाने का अनुरोध किया है। महारैली को सफल बनाने में भिवंडी से अधिक से अधिक  लोगों के शामिल होने के लिये यहां की लगभग सवा दो सौ मस्जिदों के इमामों एवं उनके ट्रस्टियों की एक महत्वपूर्ण बैठक बुलाई गई है ।     

Post a comment

Blogger