Ads (728x90)

वजीरगंज प्रखंड के तरवां निवासी पूर्व पंचायत समिति सदस्य सह महादलित प्रकोष्ठ के प्रखंड अध्यक्ष 55 वर्षीय  द्वारिका रजक की गुरूवार की शाम  तबीयत खराब होने के कारण गया में ईलाज करवाया जा रहा था, लेकिन रात  में ही ईलाज के क्रम में ह्दय गति रूक जाने के कारण इनकी मौत हो गई। मृतक द्वारिका रजक मध्य विद्यालय तरवां में कार्यरत शिक्षिका मीना देवी के पति थे।  इनके निधन की खबर से तरवां पंचायत के प्रबुद्ध नागरिकों सहित जदयू कॆ नेताओं ने गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है ।  शोक संवेदना व्यक्त करने वालों में जदयू अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रखंड अध्यक्ष बिनोद शर्मा, सरपंच संघ के प्रखंड अध्यक्ष सुमित्रा देवी, मानपुर प्रखंड के पूर्व प्रमुख धर्मेन्द्र रजक, मुखिया यास्तीन खातुन, परवेज खां, श्यामसुन्दर रजक, मो आरीफ हुसैन, डॉ एसएम नाजीमी, डॉ जहांगीर खां,  पूर्व मुखिया शिवशंकर  यादव, सर्वोदय क्रीड़ा परिषद के प्रखंड अध्यक्ष रामाशंकर यादव, गोरेलाल चौधरी, संदीप वर्णवाल, मो  ताहीर रसुल, अनिल मिस्त्री, पूर्व प्रधानाध्यापक प्रभू रजक आदि शामिल हैं । इनकॆ आकस्मिक निधन पर  मध्य विद्यालय तरवां  की तमाम शिक्षक-शिक्षिकाएं एवं छात्रों ने शोक सभा क़ा आयोजन किया गया ।

जदयू जिलाध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष को प्रखंड जदयू ने दी बधाई

सीटी रिपोर्टर /वजीरगंज (गया )वजीरगंज जदयू जिलाध्यक्ष एलेक्जेन्डर खां के नेतृत्व में जिला के विकास में सहयोगी जिला उपाध्यक्ष नन्दकिशोर ठाकुर को जिला कार्यकारीणी में शामिल किए जाने पर प्रखंड जदयू नेताओं ने बधाई दी है।  बधाई देने वालों में जदयू अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रखंडअध्यक्ष बिनोद षर्मा, उपाध्यक्ष मो आरीफ हुसैन, शिव शंकर प्रसाद अदरखी, युगलकिशोर प्रसाद, दीपक हरदेव नारायण प्रसाद, सतीष कुमार, मनोज शर्मा र्मा, मो इरकान अली, मिथलेश  शर्मा, विजय मालाकार, साधू मालाकार,शशि भूषण शर्मा,  रामविलास शर्मा आदि शामिल हैं ।

पीड़िता लीलावती अपने पति के हत्या में शामिल मिल आरोपी पर केस नहीं उठाने पर जान मारने की धमकी का लगाया आरोप
- ढाई माह बाद भी हत्या के आरोपी पुलिस की पकड़ से है दूर

सीटी रिपोर्टर /वजीरगंज (गया )वजीरगंज प्रखंड के सकरदास नवादा  पंचायत स्थित मंझौली निवासी विधवा महिला लीलावती देवी अपने पति के हत्यारे को सलाखों के पीछे डालने हेतू दर-दर ठोकर खाते हुए आरोपियों के धमकी के बीच भय के साए में जीने को मजबुर है।  लीलावती देवी ने 18 सितंबर 2019 को पुलिस अधीक्षक गया सहित जिलाधिकारी, पुलिस महानिरिक्षक मगध जोन के पास आवेदन देते हुए कहा है कि मेरे पति स्व0 ओम प्रकाश लाल की मौत भूमि विवाद में 14 सितंबर 2019 को पड़ोस के ही रहने वाले करीब एक दर्जन आरोपियों ने मेरे पति एवं सभी बेटे-बेटियों को अचानक लाठी डंडा एवं रड से मारपीटकर गंभीर रूप से घायल कर दिया।  घायल ओमप्रकाश  लाल की मौत ईलाज के क्रम में जिला अस्पताल में हो गई। जबकि हमलोग निजी चिकित्सकों के पास ईलाज करवाए।  इस घटना क ढ़ाई माह बाद भी वजीरगंज पुलिस आरोपियों के घर छापामारी के नाम पर केवल खानापुर्ति कर रही है। जबकि कई आरोपी इन दिनों खुलेआम क्षेत्र में घुमते फिर रहे है। पीड़िता ने आरक्षी अधीक्षक के पास दिए गए आवेदन में कहा है कि इस घटना में नामजद अभियुक्तों के द्वारा केस उठाने एवं नहीं उठरने पर जान मारने की भी धमकी दी जा रही है। जिससे हम सपरिवार सुदुरवर्ती ग्रामीण क्षेत्रों में भय के माहौल में जीने को मजबुर हैं ।  पीड़िता ने अपने पति के हत्या में शामिल नामजद आरोपियों को अविलंब गिरफ्तारी  करवाने की मांग जिला आरक्षी अधीक्षक से की है।

Post a comment

Blogger