Ads (728x90)

-कांग्रेस-राकां आघाड़ी का संयुक्त घोषणा पत्र,हर वादा होगा पूरा, 10 लाख छात्रों को लैपटॉप.

मुंबई,इस साल 27 अक्टूबर को दिवाली महाराष्ट्र की जनता मनाएगी और दिवाला शिवसेना- बीजेपी का निकलेगा. यह बात चांदीवली विधानसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार व मौजूदा  विधायक नसीम खान ने कांग्रेस -राकां के संयुक्त घोषणा पत्र के लांच के मौके पर कही. उन्होंने कहा कि हमारा घोषणा पत्र शपथनामा है . इसका अर्थ यह है कि हम सरकार बनाने के बाद इन वादों को जरुर पूरा करेंगे. उन्होंने कहा कि शपथनामा में महागठबंधन ने राज्य के किसानों की कर्जमाफी के अलावा युवाओं को रोजगार देने के लिए कई वादे किए हैं. हमलोगों ने 500 वर्ग फुट के मकान पर प्रॉपर्टी टैक्स माफ़ करने का वादा किया है. जरतमंद छात्रों की फ़ीस को माफ़ करने के अलावा उन्हें 10 लाख लैपटॉप देने की घोषणा की है. शिक्षित बेरोजगारों को प्रति महीने 5 हजार रुपए का भत्ता व  नौकरी में 80 प्रतिशत स्थानीय युवाओं को रिजर्वेशन देने का वादा किया है. नसीम ने साफ़ किया कि स्थानीय लोगों को आरक्षण देने का मतलब यह है नहीं है कि सिर्फ भूमिपुत्रों को नौकरी दी जाएगी. किसी भी प्रदेश से आने वाले व्यक्ति के पास 15 साल का डोमिसाइल सर्टिफिकेट है तो उन्हें भी यह लाभ मिलेगा. 51 पेज के घोषणा पत्र में कांग्रेस - राकां की आघाड़ी ने पर्यावरण की सुरक्षा के लिए कानून बनाने का भी वादा किया है. नसीम ने कहा कि इस कानून के आने के बाद गोरेगांव के आरे कॉलोनी जैसे राज्य के कई हरित क्षेत्रों की सुरक्षा की जा सकेगी.

युति सरकार की हर योजना फेल

नसीम ने कहा कि, पांच साल पहले बीजेपी ने लोगों से बुलेट ट्रेन, मेट्रो ट्रेन, ट्रांस हार्बर सी लिंक,समृद्धि महामार्ग समेत कई योजनाओं की घोषणा की थी, लेकिन इनमें से किसी वादे को पूरा नहीं किया गया. इसके बावजूद बीजेपी मुंगेरी लाल के हसीन सपने की तरह फिर से सरकार बनाने का दावा कर रही है.उन्होंने कहा कि 21 अक्टूबर को मुंबई समेत राज्य की जनता बीजेपी-शिवसेना को सही सबक सिखाने वाली है. उन्होंने कहा कि बीजेपी लोगों को गुमराह करने के लिए पाकिस्तान व राम जन्मभूमि का मुद्दा उठा रही है, लेकिन वे अपने मंसूबे में कामयाब नहीं होंगे. युति सरकार ने लोगों से झूठे वादे कर उन्हें ठगने का काम किया है.

लड़ाई में सभी एकजुट

नसीम ने इस बात से इंकार किया कि पार्टी के अंदर किसी तरह की गुटबाजी है. उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी बड़ी है. इस वजह से कुछ  मतभेद लाजमी है, लेकिन कांग्रेस की खासियत है कि जब भी  विरोधी दलों से हमारी लड़ाई होती है. हम सब एकजुट होकर एक - दूसरे का साथ देते हैं.

Post a comment

Blogger