Ads (728x90)

भिवंडी। एम हुसेन ।  मुंबई-नासिक राष्ट्रीय महामार्ग नंबर 3 एवं मुंबई- अहमदाबाद नंबर 8 को जोड़ने वाले मानकोली- चिंचोटी राज्य मार्ग को बीओटी पद्धति पर बनाने वाली सुप्रीम इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी द्वारा टोल वसूली तो किया जा रहा था, लेकिन राज्य मार्ग पर जगह-जगह हुए गड्ढों की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा था। सड़क पर हुए गड्ढों को नजर अंदाज करने के कारण भारी संख्या में ग्रामीण सड़क पर उतरे और लगभग दो घंटे तक यातायात बाधित करके रास्ता रोको आंदोलन किया। ग्रामीणों ने अपना आंदोलन उसरव समय वापस लिया जब पुलिस के समक्ष सुप्रीम इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी के व्यवस्थापक ने आश्वासन दिया कि राज्य मार्ग का जल्द से जल्द नूतनीकरण करा लिया जाएगा और जब तक नूतनीकरण का काम पूरा नहीं हो जाएगा तब तक टोल वसूली का काम बंद रहेगा।
    गौरतलब है कि दोनों राष्ट्रीय महामार्ग को जोड़ने वाले मानकोली-अंजूरफाटा-चिंचोटी राज्य पर बड़े पैमाने पर गोदाम हब होने के कारण हजारों की संख्या में छोटे-बड़े वाहनों का आवागमन रहता है। जिसके कारण 26 किमी के इस सड़क पर हजारों की संख्या में बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं। सड़क पर हुए गड्ढों के कारण जहां आए दिन दुर्घटनाएं होती रहती हैं वहीं यातायात बाधित होने के कारण आम नागरिकों एवं स्कूली बच्चों सहित काम धंधे के लिए जाने वालों को अनेक प्रकार की भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बताया जाता है कि अंजूरफाटा से खारबांव पायगांव - चिंचोटी नाका तक सड़क पर हुए गड्ढों के कारण पिछले पांच वर्षों में सैकड़ों दुर्घटनाएं घटित हुई हैं। जिसमें कई लोगों की मौत हो चुकी है और कई लोग घायल हो गए हैं। 
      जिसके कारण खारबांव,पायगांव,पाये,मालोडी,खारडी एवं कामन सहित आसपास के गांवों  के लोग ग्राम संघर्ष समिति के बैनर तले मानकोली-चिंचोटी मार्ग को जाम कर आंदोलन करके कडा विरोध जताया है । आंदोलन में शामिल लोगों ने बताया कि गणेशोत्सव आने के बाद भी टोल वसूली करने वाली सुप्रीम इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी ने सड़क पर हुए गड्ढों को भरने के लिए कोई ध्यान नहीं दे रही है । इस आंदोलन के दौरान सार्वजनिक निर्माण विभाग के किसी भी अधिकारी के न आने के कारण ग्रामीणों में भारी आक्रोश व्याप्त था। सुप्रीम इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी के प्रतिनिधि द्वारा आश्वासन देने के बाद भी ग्रामीण अपना आंदोलन वापस नहीं ले रहे थे जिसके बाद भिवंडी तालुका पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक संजय हजार की मध्यस्थता में जब सुप्रीम इंफ्रस्ट्रक्चर कंपनी के प्रतिनिधि ने आश्वासन दिया कि सड़क का नूतनीकरण जल्द से जल्द करा दिया जाएगा और जब तक सड़क के नूतनीकरण का काम पूरा नहीं हो जाएगा तब तक टोल वसूली नहीं की जाएगी। टोल वसूली कंपनी के इस आश्वासन के बाद ग्रामीणों ने लगभग दो घंटेके बाद  आंदोलन वापस लियाा। 
       ज्ञात हो कि ग्रामीणों के इस आंदोलन में किसी भी राजनीतिक पार्टी का झंडा बैनर नहीं था। ग्राम संघर्ष समिति के बैनर तले सभी गांवों की महिला मंडल एवं युवक मंडल के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता हजारों की संख्या में शामिल थे। 
  जमीर शेख- व्यवस्थापक, सुप्रीम इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी ने बताया कि
       पिछले दिनों हुई तेज बारिश के कारण सड़क पर गड्ढे हो गए हैं जिन्हें जल्द से जल्द भराकर सड़क की नूतनीकरण करा दी जाएगी। जब तक सड़क के नूतनीकरण का काम पूरा नहीं हो जाता है तब तक टोल वसूली नहीं की जाएगी।

Post a comment

Blogger