Ads (728x90)

750 किलो मिलावटी मावा सहित एक लाख 78  हजार  रूपये मूल्य का डार्क सोया एवं रेड चिली सॉस बरामद।

 भिवंडी।एम हुसेन ।गणेशोत्सव के अवसर पर मावा से बनी मिठाईयों की मांग बढ़ जाती है, जिसके लिए नकली एवं मिलावटी मावा बनाने वाले  भी सक्रिय हो जाते हैं। मिलावटी मावा बनाने की जानकारी मिलने पर ठाणे के औषध व अन्न प्रशासन विभाग ने भिवंडी तालुका के लोनाड ग्राम पंचायत के हरणापाड़ा स्थित एम.एम. फूड्स कंपनी में छापा मारकर 750 किलोग्राम मिलावटी मावा सहित एक लाख 78 हजार रूपये मूल्य का डार्क एवं रेड चिली चायनीज सॉस आदि जब्त कर लिया है।
 ठाणे अन्न व् औषध प्रशासन विभाग के अन्न सुरक्षा अधिकारी माणिक जाधव को सूचना मिली थी कि लोनाड स्थित हरणापाड़ा में एम.एम. फ़ूड्स कंपनी बिना किसी अनुमति के अवैध रूप  से चल रही है। मुखबिर द्वारा गुप्त सूचना मिलते ही कोकण विभाग के आयुक्त  देसाई एवं सहायक आयुक्त आर.सी. रुणवाल के मार्गदर्शन में अन्न सुरक्षा अधिकारी माणिक जाधव एवं शंकर राठौड़ ने जब कंपनी की जांच किया तो कंपनी के पास फ़ूड्स प्रोडक्ट बनाने के लिए कोई सरकारी लाइसेंस आदि नहीं मिला। एफडीए के अधिकारियों को वहां से दूध पावडर,डालडा एवं शक़्कर के मिश्रण का निम्न दर्जे का मावा बनाने की जानकारी मिली। जिसे बाज़ार में बर्फी ब्रांड के नाम से 125 रूपये किलो की दर से बेंचा जाता है। मिलावटी मावा के अलावा यहां चायनीज खाद्य पदार्थ डार्क सोया सॉस एवं रेड चिली सॉस के उत्पादन की भी जानकारी मिली है। एफडीए के अधिकारियों ने जब कंपनी के व्यवस्थापक सत्येंद्र सिंह से जब चायनीज खाद्य पदार्थ बनाने का लाइसेंस मांगा तो इससे संबंधित भी कोई दस्तावेज इनके पास नहीं था। एफडीए के अधिकारियों ने यहां से 93,750 रूपये मूल्य का 750 किलो ग्राम नकली मावा, 30,600 रूपये मूल्य का 270 किलो डार्क सॉस एवं 54,000 रूपये मूल्य का 450 किलो रेड चिली सॉस सहित कुल 1,78,350 रूपये का माल बरामद किया है। एफडीए के अधिकारियों ने माल जब्त करके कंपनी सील कर दिया है। उक्त संदर्भ में अन्न सुरक्षा अधिकारी माणिक जाधव ने जानकारी देते हुए बताया कि निकृष्ट दर्जे का मावा का प्रयोग कर नागरिकों के जीवन से खेलने वाले उत्पादक के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। 

Post a comment

Blogger