Ads (728x90)

शहर के कई क्षेत्रों में  धड़ल्ले विक्री हो रहा है नकली दूध

 भिवंडी। एम हुसेन ।भिवंडी शहर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में  बड़े पैमाने पर मिलावटी दूध की विक्री की जा रही है, इस मिलावटी दूध में यूरिया खाद मिलाने का सनसनी खेज मामला प्रकाश में आया है।भिवंडी-वाड़ा रोड स्थित अंबाड़ी नाका के पास बाज़ार में यूरिया मिश्रित दूध की विक्री किए जाने की जानकारी मिलने पर श्रमजीवी संगठन की शिकायत पर अन्न एवं औषध विभाग ने दूकान को सील कर दिया है।
    शेडगांव के राजेंद्र पाटील ने सोमवार को अंबाड़ी नाका स्थित सिद्धि विनायक डेयरी फ़ार्म से दूध लिया था, लेकिन राजेंद्र पाटील ने घर ले जाकर दूध को देखा तो उसमें रबर जैसा कुछ दिखाई दिया। जिसकी जानकारी उन्होंने श्रमजीवी संगठन के प्रमोद पवार को दिया, प्रमोद पवार ने अपने सहयोगियों के साथ डेयरी फ़ार्म पर जाकर इसके बारे में पूछताछ किया और दूध ले जाकर उसकी दूध जांच मशीन से जब जांच कराया तो उसमें यूरिया मिश्रित किए जाने की पुष्टि हुई। श्रमजीवी संगठन के पदाधिकारियों ने जब मिलावटी दूध के बारे में दूकानदार प्रेम सिंह से पूछा तो उन्होंने बताया कि दूध वाड़ा तालुका के घोणसई के मंगेश चौधरी के यहां से बेचने के लिए लाते हैं। प्रमोद पवार ने स्थानीय पुलिस पाटील को बुलाकर पंचनामा कराया और इसकी शिकायत अन्न और औषध प्रशासन विभाग से कई। अन्न व औषध प्रशासन विभाग के अधिकारियों ने मंगलवार को दूकान को सील कर दिया है और दूध का नमूना जांच के लिए भेज दिया है।
     सूत्रों द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार दूध में यूरिया खाद मिलाए जाने पर उसमें फैट्स की मात्रा अधिक हो जाती है, जिसके कारण नकली दूध बेचने वाले दूध व्यापारी दूध में यूरिया खाद मिलाने से भी नहीं हिचकिचाते हैं। भिवंडी दूध उत्पादक एवं विक्रेता संघ के अध्यक्ष आनंद गद्रे ने बताया कि भिवंडी शहर सहित ग्रामीण के विभिन्न क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर मिलावटी दूध की विक्री की जाती है। उन्होंने बताया कि भिवंडी में दूध का उत्पादन कम होता है लेकिन दूध विक्रेताओं द्वारा दूध उत्पादन से कई गुना अधिक दूध बेचा जा रहा है। उन्होंने बताया कि सैकड़ों की संख्या में पैकेट अथवा खुला दूध बेचने वाली खुली दुकानों में इसी प्रकार का नकली दूध बेचा जाता है। जिसमें यूरिया खाद सहित तरह-तरह का केमिकल मिश्रित किया जाता है, जो स्वास्थ्य के लिए काफी हानिकारक होता है। लेकिन सस्ता मिलने के कारण ग्राहक उन्हें बेझिझक खरीदते रहते हैं। आनंद गद्रे ने बताया कि भिवंडी में नकली दूध बेचने वालों के विरुद्ध कार्रवाई करने की मांग को लेकर उन्होंने स्थानीय सहित एफडीए से अनेकोबार  शिकायत की है लेकिन विभाग द्वारा उनके विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं की गई है जो चिंता का विषय है।           

Post a comment

Blogger