Ads (728x90)

उमरखेड(ता. प्र):-पूरे विश्व मे जो जातीय सलोखा और शांति के लिये और मानव अधिकारों के हित केलिए महिलाओ के अधिकारों के लिये उनको सम्मान दिलाने केलिये अपना श्रमिक और आर्थिक योगदान निस्वार्थ करते है ऐसे व्यक्तियों को उनकी सेवाओं को देखते हुये उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शांतिदूत की पदवी से नवाजा जाता है और महात्मा गांधी फाउंडेशन द्वारा पीस अंबेसीडर की पदवी दी जाती है इस साल भी आने वाली गांधी जयंती के पवित्र मौके पर यवतमाळ जिल्हे के शांतिदूत की पदवी शहर ए उमरखेड में और पूरे महाराष्ट्र में महिलाओं के हुक़ूक़ और सम्मान की लड़ाई लड़ने वाली मानव अधिकार के सम्मान का साथ देने वाली सत्यनिर्मिति महिला मंडळ उमरखेड की संस्थापिका/अध्यक्षा सौ शबाना खान को दी गई है जो एक ऐतिहासिक मान है सत्यनिर्मिति महिला मंडल पिछले दस सालों से महाराष्ट्र में जातीय सलोखा अभियान, भ्र्ष्टाचार मुक्त भारत अभियान,जातीयवाद मुक्त भारत,बेटी पढ़ाओ भविष्य बचाओ मिशन,महिला सुरक्षा ,बाल सरक्षण मिशन,महिलाओ को स्वयं सुरक्षा हेतु कराटे क्लासेस,महिलाओ को रोजगार हेतु शिलाई स्कूल,बयूटी पार्लर कोर्स,शार्ट हैंड इंस्टिट्यूट, महेंदी क्लासेस,निराधार और बेसहारा महिलाओ को आर्थिक और शय्क्षणिक सहायता,छत्राओं को निशुल्क शालेय सहित्य,कौटुम्बिक सल्ला केंद्र चलाना, शांति सन्देश मुहिम चलाना,महिलाओ पर हो रहे अत्याचार के खिलाफ आवाज़ उठाना और भी कई सामाजिक कार्यो को अंजाम दे रही है सत्यनिर्मिति महिला मंडल की इसी नी स्वार्थ सेवा को देखते हुए महात्मा गांधी इंटरनेशनल पिस फाउंडेशन नेपाल की ओर से उमरखेड शहर की निवासी अध्यक्षा सौ शबाना खान को पीस एम्बेसीडर शांतिदूत पदवी के खिताब से सम्मानित किया गया वैसे ही अमरावती विभाग के शांतिदूत का सम्मान  समाजसेवी डॉ साजिद अली साहब को प्रदान किया गया इस सम्मान की खुशी की लहर पूरे विदर्भ में फैल गई और सभी विदर्भ वासियो महिलाये,छात्र,सामाजिक संस्थाये, शासकीय और निम्शासकीय विभागों,राजकीय पक्षो एवम नागरिको द्वारा शुभकामनाय दी गई.

Post a comment

Blogger