Ads (728x90)

भिवंडी-वाड़ा रोड पर हुए असंख्य गड्ढे में लगाया पौधा,
 मंत्री के नाम पर किया गड्ढे का नामकरण,
सार्वजनिक निर्माण मंत्री से किया है 1,733 गड्ढों के एवज में 17,33000 रूपये पुरस्कार की मांग।

 भिवंडी। एम हुसेन ।भिवंडी तालुुका के भिवंडी-वाड़ा राज्य मार्ग पर हुए असंख्यए जानलेवा गड्ढों की ओर सार्वजनिक निर्माण विभाग एवं सुप्रीम इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी का ध्यान आकर्षित करने के लिए श्रमजीवी संगठन ने अनोखा आंदोलन किया है। इस आंदोलन में श्रमजीवी संगठन के युवक जिला प्रमुख प्रमोद पवार के नेतृत्व में राज्य मार्ग पर हुए गड्ढों में पौधारोपण किया गया  है ।   श्रमजीवी संगठन के कार्यकर्ताओं ने सड़क पर हुए गड्ढों का नामकरण सार्वजनिक निर्माण मंत्री चंद्रकांत पाटील,ठाणे जिला के पालक मंत्री एकनाथ शिंदे,पालघर के पालक मंत्री रवींद्र चव्हाण एवं सुप्रीम इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी के अधिकारी के नाम पर किया है। जिलाध्यक्ष अशोक साप्टे एवं प्रमोद पवार ने चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि एक अगस्त तक सड़क पर हुए असंख्य जानलेवा गड्ढे भरे नहीं गए तो टोलनाका बंद कराने के लिए तीव्र आंदोलन किया जाएगा जिसकी सारी जिम्मेदारी प्रशासन व कंपनी की होगी। 
  ज्ञित हो कि सुप्रीम इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी द्वारा सन 2013 में लगभग साढ़े तीन सौ करोड़ रूपये खर्च करके बीओटी पद्धति पर भिवंडी-वाड़ा-मनोर राज्य मार्ग बनाया गया था। सड़क का काम पूरा न होने के बावजूद 98 प्रतिशत काम पूरा होने की जानकारी देकर कंपनी द्वारा टोल वसूली का काम भी शुरू कर दिया गया था। सड़क निर्माण में निम्न दर्जे की सामग्री का उपयोग करने के कारण सड़क पर प्रायः जानलेवा गड्ढे हो जाते हैं जिसमें दुर्घटनाएं होने से कई लोगों की मौत भी हो चुकी है। भिवंडी से लेकर मनोर तक राज्य मार्ग पर हुए असंख्य जानलेवा गड्ढों को भरने की मांग श्रमजीवी संगठन निरंतर करते आरही है। जिसके लिए श्रमजीवी संगठन भिवंडी से केवल अंबाड़ी तक ही 1733 गड्ढों की गिनती की गई है। संगठन के कार्यकर्ताओं ने सड़क पर हुए गड्ढों में अंबाड़ी नाका के पास पौधारोपण करके उसका नामकरण सार्वजनिक निर्माण मंत्री चंद्रकांत पाटील,ठाणे जिला के पालक मंत्री एकनाथ शिंदे,पालघर के पालक मंत्री रवींद्र चव्हाण एवं सुप्रीम इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी के अधिकारी के नाम पर किया है। सार्वजनिक निर्माण मंत्री चंद्रकांत पाटील द्वारा राज्य मार्ग पर एक गड्ढा दिखाओ एक लाख का पुरस्कार पाओ की घोषणा की गई थी जिसके अनुसार मांग करते हुए श्रमजीवी संगठन द्वारा मंत्री से 1733 गड्ढों के लिये 17 लाख 33 हजार रूपये के पुरस्कार की मांग की गई है। श्रमजीवी संगठन पुरस्कार की मांग का पत्र  राज्य मार्ग की जवाबदारी संभालने वाले वाड़ा स्थित सार्वजनिक निर्माण विभाग के उप अभियंता सी.एच.पाटील को सौंप  दिया गया है और गड्ढेमय सड़क बनाने वाले अधिकारी को आदर्श गड्ढा मय अधिकारी एवं ठेकेदार को आदर्श गड्ढामय ठेकेदार का पुरस्कार देने की मांग की है। श्रमजीवी संगठन के इस आंदोलन में अशोक साप्टे ,प्रमोद पवार जयदास भोईर,मुकेश भांगरे,प्रकाश राउत,किशोर हुमने,गणपत हिलीम,जयेंद्र गावित, संगीता भोमटे, जया पारधी,दिलीप गोतारणे, सुनील लोणे, नारायण जोशी, दुष्यंत घायवट,गुरुनाथ वाघे,आशा भोईर,यशवंत भोइर, लक्ष्मी मुकणे, राष्ट्रवादी के सुरेश पवार , जितेश पाटील सहित भारी संख्या में अन्य पदाधिकारी व कार्यकर्ता शामिल थे।

Post a comment

Blogger