Ads (728x90)

बसरेहर विकासखंड क्षेत्र में बनी जिले की सबसे बड़ी परौली रमायन  की गौशाला मैं आज रात करीब 24 गौवंशो की कीचड़ में फंस कर भूख प्यास के चलते मौत हो गई।वही करीब 13 गोवंश गंभीर हालत में गौशाला की कीचड़ में फंसी हुई है जिन्हें निकालने के लिए गौशाला में बैठे कर्मचारियों को निकालने की फुर्सत नहीं है जिस कारण उनकी भी मौत का तमाशा देखा जा रहा है इस गौशाला को बने अभी सात माह हुए हैं और करीब इस गौशाला के अंदर अभी तक ग्रामीणों के अनुसार 900 गोवंश ओं की मौत हो चुकी है जिन्हें इस गौशाला के पिछले हिस्से में जेसीबी द्वारा गड्ढे खुदवा कर गढ़वा दिया गया है ग्रामीणों का कहना है इस गौशाला के कारण आसपास के
ग्रामीणों ने बताया की जब से यह गौशाला बनी है और उसमें हो रही गोवंश ओं की मौत के कारण उनको खुले में फेंक दिया जाता है उनको कुत्ते नोच नोच कर खाते हैं और फिर जब गोवंश का शव सड  ने लगता है और तेज हवाओं के साथ उनकी बदबू गांव में होते हुए हमारे घरों में आती है जिस कारण हमारे घर के बच्चे बीमार हो रहे हैं जिसकी शिकायत कई बार हम लोग जिला स्तर पर कर चुके है लेकिन कहीं कोई भी सुनवाई नहीं की जा रही है आज इस गौशाला में बरसात होने के कारण पूरी गौशाला कीचड़ से भर कर दलदल में तब्दील हो गई है जिस में फंसकर गोवंश हॉकी तड़प तड़प कर भूख प्यास से मौत हो रही है गौशाला में लगे कर्मचारी उन गोवंश ओं की मौत का तमाशा देखते रहते हैं और अपने साथियों के साथ हंसी ठिठोली करते हैं गोवंश की चीख-पुकार भी इन
गौशाला कर्मियों को सुनाई नहीं देती है जहां सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कहना है कि किसी भी गौशाला में धन की कमी नहीं है और धन की कमी की वजह से किसी भी गौशाला में गौ वंश की मौत नहीं होगी लेकिन इटावा जिले की इस गौशाला का नजारा देखते ही बन रहा है जहां अधिकारियों ने दबी जुबान में कहा 1 गोवंश के ऊपर पूरे दिन में हमें सिर्फ ₹30 दिए जाते हैं जिससे उसका पूरा खर्चा चलाना है लेकिन जमीनी स्तर की बात की जाए तो 1 गोवंश के ऊपर न्यूनतम 80 से ₹100 का खर्चा सिर्फ खाने का ही आता है और रखरखाव के लिए लगे कर्मचारियों की तनखा अलग से देनी पड़ती है आज हुई इस गौशाला में 25 गोवंश की मौत का आखिर जिम्मेदार कौन होगा यह सवाल आम जनता पूछ रही है गोवंश की मौत की जानकारी आला अधिकारियों को होने पर उनके  हाथ पैर फूलने लगे और उन्होंने तत्काल प्रभाव से जेसीबी लगाकर उन भवनों को वहां से हटाकर खुदे हुए गड्ढों में दबा दिया गया जिससे मीडिया कर्मी पहुंचे तो उन्हें गोवंश के शव ना मिले।

 इटावा से महावीर सिंह यादव की रिपोर्ट

Post a comment

Blogger