Ads (728x90)

 -
भारतीय संविधान कीी जनजागृती हो और विद्यार्थियों को इसके महत्व की जानकारी  वो इसी प्रकार विद्यार्थियों को संविधान के कलम की जानकारी होने के उद्देेश्य से तालुका के दाभाड केंद्र स्कूल में भारतीय संविधान कलम पाठ्र्यक्रम स्पर्धा शुक्रवार को आयोजित कर एक अनोखा स्तुत्य उपक्रम का आयोजन किया गया।उक्त कार्यक्रम में अश्विनी मुकणे नामक विद्यार्थी सं विधान प्रस्ताविक वाचन कर कार्यक्रम  काा शुभारंभ किया। उक्त अवसर पर दाभाड केंद्र के १२  स्कूल सहभाग हुए  जिसमें कुल २५० विद्यार्थी भारतीय संविधान कलम पाठ्यक्रम स्पपर्धामें  सहभागी हुए थे और दाभाड केंद्र के केंद्रप्रमुख शामसुंदर दोंदे के मार्गदर्शन में यह कार्यक्रम संपन्न हुआ।उक्त अवसर पर श्रमजीवी संघटना तालुकाध्यक्ष सुनिल लोणे,शिक्षक पुंडलिक पाटिल मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे। डॉ.बाबासाहेब आंबेडकर द्वारा लिखे गए संविधान पर अपना देश चलता है। भारतीय संविधान  प्रत्येक भारतीय के लिए अभिमान की बात है। विद्यार्थियों के ,भवितव्य संविधान के अनुसार उजागर होंगे। डॉ.बाबासाहेब आंबेडकर ने संविधान लिखकर एक अलग आदर्श निर्माण किया है इसकी जानकारी हम सभी को होनी चाहिए इस प्रकार का मनोगत शामसुंदर दोंदे ने प्रस्ताविक भाषण में व्यक्त किया।
भारतीय  संविधान कितना महान है इस  संदर्भ में सुनील लोणे ने अपने मनोगत में व्यक्त किया। जांभिवली स्कूल के विद्यार्थियों ने चवदार तळ्याचे पाणी  देशभक्ति गीत गाकर चवदार तल का सत्याग्रह आंदोलन सबके सामने प्रस्तुत किया। विद्यार्थियों ने संविधान की कलम की जानकारी देते हुए शिक्षकों का मन जीत लिया। छोटे गट में खंबाला  स्कूल के विद्यार्थी मंथन राजेश पाडेकर ने प्रथम क्रमांक प्राप्त किया तथा कोटा के जाभिवली स्कूल का प्रतिक रोहिदास पाटिल ने  द्वितीय तथा  खंबाला स्कूल के ओमकार लिहे ने तृतीय क्रमांक प्राप्त कर स्पर्धा में सफल रहे। इसी प्रकार बड़े गट में पाली ,किरवली स्कूल के शुभम भगत नेे प्रथम क्रमांक तथा दाभाड स्कूल की प्राची मंगेश सोमवंशी ने द्वितीय क्रमांक तथा पाली ,किरवली स्कूल के हर्षल मानकर ने तृतीय  क्रमांक प्राप्त कर स्कूल का नाम उज्जवल किया है।उक्त स्पर्धा का परीक्षण पुंडलिक पाटिल ने किया। विद्यार्थियों को सुनिल लोणे,पुंडलिक पाटिल,शामसुंदर दोंदे,अश्विनी गावीत,मनिषा धनगर के हस्तों सम्मान चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।उक्त अवसर पर भालचंद्र पाटिल,उदय पाटिल, सदाशिव पाटिल,यशवंत म्हसकर,राजेंद्र भोईर,अशोक ठाणगे,स्वाती तलकर आदि मान्यवर उपस्थित थे। कार्यक्रम का सूत्रसंचालन भगवान पाटिल ने किया।

Post a comment

Blogger