Ads (728x90)

-
ईवीएम मशीन के संदर्भ में अलग अलग राजकीय पक्षों के विभिन्न मत है इसीलिए ईवीएम के विकल्प के रूप में  भारत चुनाव आयोग ने वीवीपॅट मशीन का विकल्प चुना है। जिसके अनूसार आगामी लोकसभा चुनाव के अवसर पर चुनाव आयोग के निर्देशानूसार भिवंडी में नागरिकों के लिए ईवीएम व वीवीपॅट मशीन का प्रशिक्षण ,प्रसार ,प्रसिद्धी व जनजागृती अभियान चलाया जा रहा है। भिवंडी के नागरिकों को महसूल पथक द्वारा व वीवीपॅट मशीन के प्रशिक्षण करने के लिए काम शुरु कर दिया गया है जिसकी तहसीलदार शशिकांत गायकवाड ने घटनास्थल पर जाकर निरीक्षण किया। उक्त अवसर पर नागरिकों को  वीवीपॅट मशीनबाबत समाधान व्यक्त करने की जानकारी तहसीलदार ने दी। भिवंडी मेें १३४ ग्रामीण ,१३६ भिवंडी (पश्चिम ) व १३७ (पूर्व ) इन तीन विधानसभा क्षेत्र में वीवीपॅट मशीन कि प्रशिक्षण व  जनजागृती हेतु छह मोबाईल वैन व पथक द्वारा नागरिकों को जानकारी दी जा रही है। उक्त कार्यक्रम २७ दिसंबर  २०१८ से २७ फरवरी २०१९ तक कार्यरत रहेगा और ईवीएम ,वीवीपॅट बाबत मतदारों के मन की शंका को दूर किया जाएगा। भिवंडी के खुली जगह पर  नागरिकों को प्रशिक्षित कर अपना मत किसे दिए हैं इसकी संतुष्टि मतदारों मिल रही है। मतदार एक विशिष्ट उम्मीदवार को मतदान करता है . मतदारों ने जिस उम्मीदवार  को मत दिया है वह मत उस उम्मीदवार को मिलाा है या नहीं इसकी पुुष्टिकरने के लिए वीवीपॅट को उपयोग में लाया गया है। ईवीएम मशीन द्वारा मतदान हो परंतु  इस यंत्रणा में कुछ बिगाड़ हुआ हो अथवा तांत्रिक अडचण निर्माण हुई है तो वीवीपॅट द्वारा मतगणना की जासकती है।अर्थाात  मतदारों ने उम्मीदवार को दिए गए मत सुरक्षित रखने की दृष्टी तैयार की गई है यह दूसरी वैकल्पिक यंत्रणा है। ईवीएम मशीन में गडबडी होने संबंधी शिकायत अनेक राजकीय पक्षों द्वारा की गई है। ईवीएम द्वारा मतों की उलटफेर होने का आरोप बार बार किया जाता है। ऐसी परिस्थिति में मत अबाधित रखने के लिए वीवीपॅट  को उपयोग में लाया जाता है। उक्त प्रकार जानकारी  तहसीलदार शशिकांत गायकवाड ने दी है।   

Post a comment

Blogger