Ads (728x90)

संवाददाता, भिवंडी ।एजेंट द्वारा नोकरी के लिए मलेशिया में भेजे गए भिवंडी के युवक को सांसद कपिल पाटिल के प्रयासों से मुक्त कराया गया है।विदेश  मंत्री सुषमा स्वराज से भिवंडी सांसद कपिल पाटिल के संपर्क साधने के पश्चात केंद्र सरकार ने तत्काल प्रभाव से हस्तक्षेप करके मलेशिया से युवक को मुक्त कराया।
गौरतलब है कि जावेद मंसूरी नामक युवक भिवंडी में टेलर काम कर रहा था जिसे एक एजेंट ने मलेशिया में अधिक वेतन वाली नोकरी का लालच दिखाकर  विविध प्रलोभन दिखाया। इसके बाद उसके पास से मलेशिया में जाने का टिकट, वीज़ा आदि के लिए एक लाख 75 हजार रुपये वसूल किया। जावेद को मुंबई के विमानतल की उपेक्षा उडीसा के भुवनेश्वर विमानतल पर बुलाया। विमानतल से कुछ  अंतर पर  जावेद के मोबाईलपर  शूटिंग  लिया जिसमें मैं अपनी  मर्जी से जा रहा हूं, ईमानदारी से काम करूंगा ऐसा वादा कराया गया ।जावेद के मलेशिया पहुंचने पर वहां एजेंट ने पासपोर्ट व वीज़ा आदि दस्तावेज अपने पास लेकर रख लिया। उसके बाद वह कुछ दिन  काम कर रहा था परंतु  7 अगस्त को मध्यरात्रि में रहने वाले स्थान पर पुलिस ने छापा मारा।उस समय जावेद से दस्तावेज की मांग की गई। परंतु दस्तावेज नहीं होने के कारण इसे पुलिस ने चार घंटे का समय दिया। इस समय में जावेद ने  काम कर रहे स्थान से व्यवस्थापक से संपर्क साधने का प्रयास किया परंतु उसकी ओर से कोई प्रतिसाद नहीं मिला।जिसकारण उसे 8  अगस्त को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और उसे न्यायालय के समक्ष पेश किया गया जिसे न्यायालय ने दोषी ठहराते हुए तीन महीने की कारावास व दो कोडे (चाबुक से मारने ) की सजा सुनाई गई।जावेद को दो कोडे मारने के बाद वह गिर गया जिससे  15 दिनों तक वह खडे होने की स्थिति में नहीं था।इसी दरम्यान उसका भिवंडी के परिवार से संपर्क हुआ।और जावेद ने आपबीती बयान की।उक्त प्रकरण की जानकारी मिलते ही परिजनों ने भाजपा के पदाधिकारी नजीर मन्सूरी से भेंटवार्ता कर घटित प्रकरण बताया जिसे गंभीरता से लेते हुए तुरंत सांसद कपिल पाटिल से संपर्क साधा।
सांसद कपिल पाटिल ने संज्ञान में लेते हुए तत्काल प्रभाव से इस संदर्भ में विदेश मंत्री  सुषमा स्वराज को जानकारी दी।  केंद्र सरकार की यंत्रणा हरकत में आई और मलेशिया में भारतीय दूत द्वारा मलेशियन सरकार से संपर्क साधा।और बताया कि जावेद  निर्दोष है,उसे फंसाया गया है यह बाब स्पष्ट हुआ है।उसके बाद जावेद को मुक्त कराया गया है।उक्त संदर्भ में  15 दिनों में ही कार्रवाई पूरी कर ली गई जिससे मंसूरी परिवार ने राहत की सांस ली।और जावेद मंसूरी भिवंडी स्थित अपने घर सुरक्षित पहुंच गया है परिणामस्वरूप मंसूरी परिवार ने सांसद कपिल पाटिल के प्रति आभार व्यक्त किया है।


Post a comment

Blogger