Ads (728x90)

इरादे रोज बनते है मगर टूट जाते है अजमेर वही जाते है जिन्हें ख्वाजा गरीब नवाज बुलाते हैं


हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती, गरीब नवाज का मजार अजमेर में है। यहा पर सभी मजहब के लोग जियारत के लिए आते है और खाली हाथ आते हैं और मुरादों की झोली भरकर जाते है यहा साल के 365 दिन लोगो की भीड़ लगी रहती है। दिन हो या रात हो जियारत करने वाले लोग 24 घण्टे दरगाह के अंदर आस पास मौजूद रहते है। यहा लंगर और कौव्वाली होती रहती है। यहा आने के लिए आप दिल से इरादा करेगे तो ही अजमेर शरीफ पहुचेंगे बिना गरीब नवाज के बुलावे के आप नही जा सकते गरीब नवाज के चाहने वाले करोड़ो है। लेकिन हकीकत यह है कि इरादे रोज बनते है मगर टूट जाते है अजमेर वही जाते है जिन्हें ख्वाजा गरीब नवाज बुलाते हैं आइये हम आपको ख्वाजा गरीब नवाज के खादिम सय्यद फैजुल हसन चिश्ती से मिलवाते है।

Post a comment

Blogger