Ads (728x90)

मुंबई। इस बार मुंबई में अच्छी बरसात हुई और बरसात के दूसरे महीने में ही सभी प्रमुख तालाब भर गए। परंतु अंतिम महीने में बरसात ने मुंबईकरों का साथ नहीं दिया। बहुत ही कम बरसात हुई। भले ही तालाबों में 91 प्रतिशत पानी जमा हो, परंतु पूरे साल पानी उपलब्ध कराने में बीएमसी को परेशानी होगी। इसलिए यह संभावना व्यक्त की जा रही है कि आगामी गर्मी के दिनों में मुंबईकरों को पानी कटौती का सामना कर पड़ेगा।

मुंबई के लोगों को सालभर  बिना किसी परेशानी की आपूर्ति करने के लिए  1 अक्टूबर के दिन तालाब में 14 लाख 47 हजार एमएलडी पानी जरूरी है। जुलाई महीने में ज़ोरदार बरसात के कारण तुलसी, विहार, मोडक सागर, तानसा, मध्य वैतरणा अन्य प्रमुख तालाब ओवरफ्लो हो गए थे। परंतु सितंबर माह में अच्छी बरसात न होने के कारण तालाबों में मात्र 91 प्रतिशत पानी जमा हुआ।

1 अक्टूबर को तालाब में जमा पानी के हिसाब से बीएमसी के जल अभियंता विभाग ने सालभर के पानी का इंतजाम करने की तैयारी की है। सालभर मुंबईकरों को पानी की आपूर्ति करने के।लिए 9 प्रतिशत पानी कम पड़ रहा है। और उसके अलावा पानी का भाप बनने, लिकेज तथा चोरी के कारण 30 प्रतिशत पानी रोज व्यर्थ जाता है। जल विभाग के एक अधिकारी ने बताया की फ़िलहाल पानी को लेकर कोई चिंता की बात नहीं है, परंतु पानी को बचाने की योजना के तहत पानी कटौती की संभावना को नकारना नहीं जा सकता है।

* मुंबई को प्रतिदिन 3800 एमएलडी पानी की आपूर्ति की जाती है। जिसमें 25 से 30 पानी चोरी और लिकेज में व्यर्थ चला जाता है।

* वर्षभर पानी की आपूर्ति के लिए तालाबों में 1 अक्टूबर को 14 लाख  47 हजार एमएलडी पानी होना जरूरी है।

* जमा पानी की रिपोर्ट देखने के बाद 15 जुलाई तक के लिए पानी का नियोजन किया जा सकेगा।

2018 - 13 लाख 17 हजार 819  एमएलडी,2017 - 14 लाख 34 हजार 807 एमएलडी,2016-  14 लाख 40 हजार 301 एमएलडी

Post a comment

Blogger