Ads (728x90)

-
भिवंडी। एम हुसेन ।पानी में डुबकी लगाकर रेती निकालने वाले पारंपरिक व्यवसाय करने वाले मूल निवासियों को जल्द परमीशन दिए जाएंगे।इस संदर्भ में तत्काल प्रभाव से प्रक्रिया शुरू कराने के लिए  राज्य के महसूल मंत्री चंद्रकांत पाटिल ने आज दिया है।उक्त प्रकार के आश्वासन दिए जाने से काल्हेर से गायमुख क्षेत्र में पारंपरिक रेती व्यवसाय करने वाले  सैकडों मूल निवासियों को राहत मिलेगी।
भिवंडी तालुुका के कशेली, काल्हेर से ठाणे के गायमुख खाडी क्षेत्र बुडी मारुन रेती निकालने वाले व्यवसायियों के लिए आरक्षित है।पूर्व कई वर्षों से पारंपरिक कोली-आगरी व्यवसायियों द्वारा रेती व्यवसाय किया जा रहा है। परंतु महसूल विभाग द्वारा परमीशन नहीं दिए जाने से रेती व्यवसायियों को भारी नुकसान हुआ है।  महसूल मंत्री चंद्रकांत पाटिल ने रविवार को पडघा स्थित दो कॉंक्रीट रास्ते का भूमिपुजन करने के लिए आए थे।उक्त अवसर पर भाजपा के सांसद  कपिल पाटिल ने मूल निवासियों के लिए व्यथा  कान में डाल दिया था । इसके बाद मंत्रालय में शुक्रवार को बैठक लेने का आश्वासन दिया था।
मंत्रालय में होने वाली की बैठक में महसूल व मेरीटाईम विभाग के अधिकारी उपस्थित थे। उक्त अवसर पर सांसद कपिल पाटिल की उपस्थिति में कशेली से गायमुख्य तक इस खाडी का सर्वेक्षण करे ।इसके बाद डुबकी लगाकर  रेती निकालने वाले व्यवसायियों को परमीशन देने के लिए अविलंब कार्रवाई शुरु करें। उक्त प्रकार का आश्वासन महसूल मंत्री पाटिल ने दिया है। जिससे पारंपरिक रेती व्यवसायियों को भारी राहत लिली है। उक्त अवसर  डुबकी लगाकर  रेती निकालने वाले व्यवसायियों के प्रतिनिधि हरिश्चंद्र पाटिल, जिला परिषद के सदस्य जयवंत पाटिल, छत्रपती पाटिल, वसंत पाटिल आदि उपस्थित थे।




Post a comment

Blogger