Ads (728x90)

मुंबई /सूरत(गुजरात)।आजकल पान खाने वालों को तादात बढ़ती जा रही है।लोगों को जब रात बिरात किसी को पान की तलब लगती है तो कही मिलता नहीं है।लेकिन गुजरात के सूरत के लिए खुसखबरी है,पूरे सूरत में 'जय श्री गणेश' से कई पान की दुकाने है और ज्यादातर एयरकण्डीशन दुकाने है।पांडे परिवार के बॉसदेव,राजधर,गुलाबधर,लालमणि,शेषमणि,रामधर इत्यादि कई पीढ़ीयों से इसी व्यवसाय से जुड़े है।पूना पाटिया के 'जय श्री गणेश' पान की दूकान के मालिक बंसीधर पांडे है,जोकि सात-आठ पान की एयरकण्डीशन दुकान की चला रहे है। इनकी दुकान के सुनील सिंह ने बताया कि इन्होने अपनी ज्यातर दुकानों पर दो नए पान को शुरू किया है। पहला 'लड्डू मीठा पान' जोकि लोग लगभग दो महीने तक कभी भी खा सकते है, यह जल्दी ख़राब नहीं होता है। इसमें गुलाब, खसखस, केसर, कोकोनेट चॉकलेट, डॉयफ्रुट इत्यादि किस्म के दर्जनों 'लड्डू मीठा पान' है। और दूसरा 'झाग वाला काथा पान' जोकि खाने के बाद पान का कलर और स्वाद दोनों मुँह में आएगा लेकिन मुहं धोने पर उसका कलर निकल जायेगा और लगेगा नहीं कि पान खाया था। दोनों पान अब धीरे धीरे लोग पसंद कर रहे है।यहाँ पर २० रुपये से हज़ारों रुपये के पान मिलते है। 'जय श्री गणेश' पान की दूकान के मालिक बंसीधर पांडे ने मुंबई में एक होटल में बातचीत के दौरान कहा," सूरत के लोग पान काफी पसंद करते है।यह फॅमिली पान शॉप है। हम लोगों को अच्छे में अच्छा देने की कोशिश करते है। हमारा 'लड्डू मीठा पान' और 'झाग वाला काथा पान' लोगों को पसंद आ रहा है। अब जल्द ही हमलोग मुंबई में भी 'जय श्री गणेश' की ब्रांच खोलने जा रहे है।" 

Post a comment

Blogger