Ads (728x90)

-11 फर्जी जमानतदारों के विरूद्ध हुआ मुकदमा पंजीकृत
-फर्जी अभिलेखों के आधार पर लेते थे जमानत

मीरजापुर,हिन्दुस्तान की आवाज, संतोष देव गिरी

मीरजापुर। जिले में जमानतदारों की फर्जी फौज सक्रिय होने के साथ फर्जी ढंग से जमानत कराने का काम करती आ रही थी। पुलिस ने इसका खुलासा करते हुए ऐसे 11 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस की इस कार्यवाही से फर्जी जमानतदारों में खलबली मच गई है। बताते चले कि पुलिस अधीक्षक आशीष तिवारी के निर्देशन में अपराध एवं अपराधियों के विरूद्ध निरन्तर कार्यवाही करायी जा रही है। इसी क्रम में षुक्रवार को फर्जी अभिलेखों के आधार पर जमानत लेने के अभ्यस्त 11 जमानतदारों के विरूद्ध भारतीय दण्ड विधान की विभिन्न धाराओं  में अभियोग पंजीकृत किया गया। जो जनपद में विभिन्न शातिर किस्म के अपराधियों की जमानत फर्जी अभिलेखों के आधार पर लेने के अभ्यस्त हो चुके थे। अपराध नियंत्रण व अपराधियों की धरपकड़ हेतु की जाने वाली कार्यवाही के क्रम में इन जमानतदारों की जब तस्दीक किया गया तो इनके द्वारा फर्जी कागजातों के आधार पर विभिन्न शातिर किस्म के अपराधियों की जमानत लिये जाने के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त हुई थी जिस पर प्रभारी निरीक्षक कोतवाली शहर अरूण कुमार यादव द्वारा इन अपराधियों के विरूद्ध थाना कोतवाली शहर में मुकदमा अपराध संख्या-201/18 धारा 419, 420, 467, 468, 471 भादवि पंजीकृत किया गया। पकड़े गए लोगों में महंगू उर्फ महंगू राम पुत्र हीरालाल निवासी हरिहरपुर पठानपट्टी थाना कोतवाली देहात, रामकिशुन पुत्र महादेव निवासी तरकापुर, लक्ष्मीनारायण पुत्र पप्पू निवासी जलालपुर बाहर, पन्ना लाल पुत्र झूरू उर्फ झूरी राम निवासी तरकापुर, सभी षहर कोतवाली, मिश्री पुत्र पुरूषोत्तम निवासी अर्जुनपुर, राजकुमार पुत्र राम भींग निवासी नेवढ़िया घाट, कृष्ण कुमार पुत्र होनहार निवासी नुआंव, धीचि पुत्र जयमूर्ति निवासी नेवढ़िया, रमेश पुत्र बेचन उर्फ बेचन लाल निवासी अर्जुनपुर, सभी देहात कोतवाली तथा तारकेश्वर उर्फ कल्लू पुत्र बुझावन निवासी तरकापुर व मुन्ना पुत्र विश्वनाथ उर्फ विश्वास निवासी अर्जुनपुर थाना देहातवाली हैं। जो फर्जी जमानतदार बनकर अपराधियों की मदद करते आ रहे थे। पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में प्रभारी निरीक्षक कोतवाली शहर द्वारा फर्जी जमानतदारों के विरूद्ध की गयी इस कार्यवाही से अन्य फर्जी जमानतदारों में भय व्याप्त हो गया है। प्रभारी निरीक्षक षहर कोतवाली  द्वारा की गयी इस कार्यवाही में फर्जी अभिलेखों का प्रयोग कर जमानत लेने वाले जमानतदारों में खलबली मच गई  है।



Post a comment

Blogger