Ads (728x90)

मीरजापुर,हिन्दुस्तान की आवाज, संतोष देव गिरी

बारिश पिछड़ने से पौधरोपण पर असर पड़ रहा है। वन व उद्यान विभाग की नर्सरी से लाखों की संख्या में पौध तैयार है लेकिन अभी तक उनकी बिक्री ही नहीं शुरू हो पाई। प्राइवेट नर्सरी संचालक ने कहा अभी तक पौध का स्टाक नहीं किया गया है। पिछले साल जून माह में ही हजारों की संख्या में पौध की बिक्री हो गई थी। यह माना जा रहा है कि इस बार पंद्रह जुलाई के बाद ही पौध रोपण हो पाएगा। बताते चले कि पिछले जून माह एवं जुलाई प्रथम सप्ताह में बारिश का रिकार्ड विगत 5-6 वर्ष में तहसील द्वारा आंकड़ा देखा जाय तो इस वर्ष बरसात की स्थिति काफी कम है। जिससे अन्नदाताओ का माथा ठनकना स्वाभाविक है।
बरसात के आकड़ों पर एक नजर-
- जून, जुलाई प्रथम सप्ताह 2012 - 10.3 मिमी
- जून, जुलाई 2013 - प्रथम सप्ताह 223.9 मिमी
- जून, जुलाई प्र स 2014 - 23.6 मिमी
- जून, जुलाई प्र स 2015 - 4.9 मिमी
- जून, जुलाई प्र स 2016 - 62.96 मिमी
- जून, जुलाई प्र स 2017 - 2.6 मिमी
- जून, जुलाई प्र स  2018 - 1. 7 मिमी


Post a comment

Blogger