Ads (728x90)

भिवंडी। एम हुसेन । देना बैंक से घर खरीदने के लिए  बोगस दस्तावेज द्वारा 29 लाख 50 हजार लेकर घर खरीदी न करते हुए सारा पैसा हड़प किए जानें वाले दम्पति सहित गवाह पर आपराधिक मामला बैंक प्रबंधक द्वारा दर्ज कराया गया है। बैंक प्रबंधक की शिकायत पर शहर पुलिस स्टेशन ने आपराधिक धारा 420 के तहत मामला दर्ज कर विस्तृत जांच कर रही है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार, भिवंडी स्थित देना बैंक शाखा से 6 वर्ष पूर्व धामनकरनाका स्थित सिद्धिविनायक संकुल निवासी दम्पति तुषार जगदीश मजीठिया, हतना तुषार मजीठिया व साक्षीदार कल्याण निवासी ओमकार अशोक तेली द्वारा सांठगांठ कर बोगस दस्तावेज द्वारा घर खरीदने के लिए  गृह कर्ज के तौर पर 29 लाख 50 हजार रूपये लिए थे। दम्पति तुषार जगदीश मजीठिया, हतना तुषार मजीठिया द्वारा गृह कर्ज की किस्तों का भुगतान समय से नहीं किए जाने के कारण बैंक प्रबंधक मुकुंद गोबिंद तिवारी जब बैंक विजिलेंस टीम के साथ बैंक कर्जदार तुषार मजीठिया के धामनकरनाका क्षेत्र स्थित सिद्धिविनायक संकुल गए तो गृह कर्ज हेतु बैंक को सौंपे गए तमाम दस्तावेज बोगस पाए जानें पर सन्न रह गए। देना बैंक विजीलेंस टीम को मजीठिया दम्पति द्वारा घर खरीदने के लिए  सौंपे गए दस्तावेज के अनुसार वहां कोई फ्लैट  इमारत संकुल में नहीं मिला. देना बैंक विजिलेंस टीम नें समुचित जांच के उपरान्त बैंक जालसाज दम्पति तुषार मजीठिया, हतना तुषार मजीठिया व साक्षीदार ओमकार अशोक तेली द्वारा बोगस दस्तावेज द्वारा बैंक का 29 लाख 50 हजार रूपया हडप किए जाने का मामला प्रकाश में आया  और बैंक जालसाज दम्पति नदारद मिले. तत्पश्चात बैंक प्रबंधक तिवारी द्वारा शहर पुलिस स्टेशन में बैंक जालसाजी में लिप्त तीनों जालसाजों के खिलाफ आपराधिक मामला पंजीकृत कराया गया है. मामले की जांच पुलिस निरीक्षक अशोक पवार कर रहे हैं. देना बैंक जालसाजी की उक्त घटना से शहर के तमाम बैंकों में हडकंप मचा हुआ है ।

Post a comment

Blogger