Ads (728x90)

भिवंडी,हिन्दुस्तान की आवाज,एम हुसेन
भिवंडी।  शहर से  सटे कामवारी नदी  में गौरी ,गणपती, दुर्गामाता विसर्जन कार्यक्रम प्रति वर्ष किया जाता है परंतु इस नदी में  बडे पैमाने कर कचरा व गंदगी का साम्राज्य निर्माण हुआ है। आगामी दो महीने में गणेशोत्सव की शुरुआत होने वाली है। इसलिए भिवंडी मनपा गणेशोत्सव के पूर्व कामवारी नदी व वरालादेवी तालाब में जमा कचरे को निकालने के लिए विशेष अभियान चलाकर स्वच्छता का काम कराए जाने की मांग  गणेशोत्सव  महामंडल के पूर्व अध्यक्ष शरद भसाले  ने मनपा आयुक्त मनोहर हिरे को ज्ञापन देकर की है।गौरतलब है कि शहर से सटे हुए कामवारी नदी में नवरात्र व गणेशोत्सव के अवसर पर प्रति वर्ष भारी संख्या में  मूर्ती विसर्जन कार्यक्रम बड़े उत्साह के साथ किया जाता है।जिसमें प्लास्टर की मूर्तीं  बड़े पैमाने पर इस नदी में विसर्जन किए जाने से प्रति वर्ष मिट्टी की बढ़ोतरी होती है। मनपा प्रशासन द्वारा  उक्त विसर्जन स्थल की ओर दुर्लक्ष करने के कारण अनेक लोग इस जगह पर बडे पैमाने पर  कचरा डाल रहे हैं। वाहन को धोते हैं व पावरलूम कारखाने ,कापड डाईंग आदि के दूषित पानी भी इस नदी में छोडे जाने के कारण यह नदी प्रदूषित हो गई है। नदी के किनारे कचरा,मिट्टी तथा घास भी उगी हुई है .परंतु इसकी अपेक्षा अधिक कचरा ,मिट्टी ,प्लास्टर की मूर्ति आज भी नदी में जमा है। इसके लिए बड़े पैमाने पर  यंत्रसामुग्री लगाकर उक्त गंदगी को निकालना अपेक्षित है। उक्त प्रकार की प्रतिक्रिया सार्वजनिक गणेशोत्सव महामंडल के पूर्व अध्यक्ष शरद भसाले ने व्यक्त की है। शहर के शेलार घाट,भादवड तालाब ,नारपोली तालाब ,वराल देवी तलाव में बडे पैमाने पर मूर्ती विसर्जन कार्यक्रम किया जाता है। इसलिए मनपा प्रशासन गणेशोत्सव पूर्व तालाब व नदी स्वच्छ करने के लिए  स्वच्छता अभियान शुरू कराए ऐसी मांग मनपा आयुक्त मनोहर हिरे से की है। इसी प्रकार कामतघर घाट, फेणेगांव घाट,वराल देवी तालाब स्थित शासन के आदेशानुसार कृत्रीम तालाब निर्माण किया गया है .परंतु उक्त कृत्रिम तालाब की दीवार जर्जर हो चुकी  है जिसे तत्काल प्रभाव से दुरुस्त करना  आवश्यक है अन्यथा दीवार ढहने की शंका बढ रही है जो एक गंभीर समस्या है।  

Post a comment

Blogger